Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2024 · 1 min read

रूपगर्विता

सिर्फ आईना ही नहीं
लोग भी बोलते
बहुत खूबसूरत है वो
उसकी इसी खूबसूरती ने
बहुआयामी व्यक्तित्व पर
चढ़ा दी अहंकार की पर्त,
हमराह बनने के लिए
पुरुष की सुन्दरता ही थी
उसकी मुख्य शर्त।

उसके इसी अहंकार ने
न जाने कितने
सुशील और काबिल लोगों को
अंगूठा दिखाया था,
पैंतीस के होने पर भी
कहीं रिश्ता जम न पाया था।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
Johnny Ahmed 'क़ैस'
झूठे सपने
झूठे सपने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
👗कैना👗
👗कैना👗
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
नव वर्ष गीत
नव वर्ष गीत
Dr. Rajeev Jain
सबके राम
सबके राम
Sandeep Pande
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
अपने वीर जवान
अपने वीर जवान
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*भरत राम के पद अनुरागी (चौपाइयॉं)*
*भरत राम के पद अनुरागी (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
जवानी
जवानी
Bodhisatva kastooriya
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बाबुल का आंगन
बाबुल का आंगन
Mukesh Kumar Sonkar
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
मुझसे मिलने में तुम्हें,
मुझसे मिलने में तुम्हें,
Dr. Man Mohan Krishna
2954.*पूर्णिका*
2954.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"कष्ट"
नेताम आर सी
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
करके ये वादे मुकर जायेंगे
करके ये वादे मुकर जायेंगे
Gouri tiwari
*पछतावा*
*पछतावा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अनकहा रिश्ता (कविता)
अनकहा रिश्ता (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
"कारोबार"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...