Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 22, 2016 · 1 min read

रिश्ते

बडे़ अजीब होते हैं रिश्ते
कुछ बने बनाए मिलते हैं
तो कुछ बन जाते हैं
और कुछ बनाए जाते हैं
स्वार्थ पूर्ती के लिए
कैसे भी हों,आखिर रिश्ते तो रिश्ते हैं
बडे नाजुक से……
सम्हालना पडता है इन्हे
बडे जतन से
लगाना पडता है
“हेंडल विद केयर”का लेबल
वरन टूट कर बिखरने का डर
और चटक गये तो ….
ताउम्र सहनी पडती है
कसक घाव की
कोई मरहम काम नही आता
शायद समय के साथ गहराई
कम हो जाती है
पर,छोड जाती है निशाँ
. देख कर जिन्हें
टीस सी उठती है
करनी पडती है भरसक कोशिश
छिपाने की इन्हे
बडे़ अजीब होते हैं………ये रिश्ते।

3 Comments · 250 Views
You may also like:
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
पिता
Dr. Kishan Karigar
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
समय ।
Kanchan sarda Malu
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता
Dr.Priya Soni Khare
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...