Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2024 · 1 min read

रण चंडी

आधी दुनिया
अधूरा किरदार
बिन मांगे मिला
पल– पल तिरस्कार
मेहनत की रोटी
खुद ही कमा ली
फिर भी ना मेरा कोई घर
ना मैं कहीं किराएदार
अपेक्षाएं त्याग दी
कर लिया सब कुछ स्वीकार
तब भी कम न हुई तौहमते
होती रही प्रश्नों की बौछार
न न, मैं कमजोर नहीं हूं
नहीं डरा सकते हो मुझे बार-बार
अब बन गई हूं रणचंडी
हाथों में है मेरे , बरछी, ढाल,तलवार।

…..

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
इंसानियत की लाश
इंसानियत की लाश
SURYA PRAKASH SHARMA
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
प्यार दीवाना ही नहीं होता
प्यार दीवाना ही नहीं होता
Dr Archana Gupta
माटी में है मां की ममता
माटी में है मां की ममता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
3014.*पूर्णिका*
3014.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
काव्य की आत्मा और रागात्मकता +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रागात्मकता +रमेशराज
कवि रमेशराज
मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर
मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर
Gouri tiwari
"जिसे जो आएगा, वो ही करेगा।
*प्रणय प्रभात*
*मुहब्बत के मोती*
*मुहब्बत के मोती*
आर.एस. 'प्रीतम'
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
एक छोटी सी आश मेरे....!
एक छोटी सी आश मेरे....!
VEDANTA PATEL
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
Shweta Soni
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
युग प्रवर्तक नारी!
युग प्रवर्तक नारी!
कविता झा ‘गीत’
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
दुनिया के डर से
दुनिया के डर से
Surinder blackpen
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
Loading...