Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 2 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]

इस युद्ध ने न जाने कितने ही
माँ-बाप से ओलाद को छिन लिया है!
जिस ओलाद के लिए माँ ने
न जाने कितनी मिन्नत मांगी थी!

कहाँ- कहाँ वह बेचारी ,
इसके लिए न भागी थी!
आज अपने बच्चे की लाश,
अपने हाथों में लिए पड़ी है!

बार-बार वह अपने आँचल से,
उसके मुख को पोछ रही है!
उठ जाओ मेरे लाल ,
ऐसा बार बार वह बोल रही है!

उसकी आँखों से आँसु की
अब नदियाँ बह रही है!
बार- बार अपने बच्चे की
बेजान शरीर को कलेजे से लगा रही है!

न जाने उस बच्चे के लिए
वह कितनी रातें जागी थी!
बच्चे के एक खुशी के लिए उसने ,
अपनी सारी खुशियाँ त्यागी थी!

कहाँ कभी अपने लिए उसे
होश हुआ करता था!
बच्चे के आगे पीछे ही
उसका जीवन चलता था!

संसार की सारी खुशियाँ उसे,
उस बच्चे के माँ कहने पर ही
मिल जाती थी!
कहाँ वह बेचारी इससे ,
ज्यादा कुछ सोच पाती थी!

अब बेचारी क्या करेगी,
किसके लिए अब जियेंगी,
यह प्रश्न उसके मन में
बार-बार आ रहा था।

वही पर बैठा पिता अपने,
बच्चे को निहार रहा था ।
न जाने कब से सुध-बुध
खोकर ,
एक टक से बार-बार
देखे जा रहा था।

किसको अपने कंधो पर
बैठाकर अब मैं घुमाऊँगा!
अब किसको घोड़ा बनकर
मै अपने पीठ पर बेठाऊगाँ!

किसको हाथ पकड़कर
अब मै शहर दिखाऊंगा!
किसके किलकारी पर अब
मै ताली बजाऊँगा!

जब वह यहाँ- वहाँ छुप जाता था,
हम सबका प्राण निकल जाते थे!
अब जब वह मेरे पास नही है,
हम सब कैसे जी पाएँगे!

यह सब अपने बच्चे के
बेजान शरीर को देखकर
वह सोच रहा था ।
कब कैसे दिन गुजरेगा !
यह प्रश्न उसके सामने खड़ा था ?

~अनामिका

Language: Hindi
3 Likes · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
सारे इल्ज़ाम इसके माथे पर
सारे इल्ज़ाम इसके माथे पर
Dr fauzia Naseem shad
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
Manoj Mahato
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
टीवी देखना बंद
टीवी देखना बंद
Shekhar Chandra Mitra
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
Khahisho ki kashti me savar hokar ,
Khahisho ki kashti me savar hokar ,
Sakshi Tripathi
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
फितरत
फितरत
नव लेखिका
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मोदी क्या कर लेगा
मोदी क्या कर लेगा
Satish Srijan
रक्षक या भक्षक
रक्षक या भक्षक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*Author प्रणय प्रभात*
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
मारी फूँकें तो गए , तन से सारे रोग(कुंडलिया)
मारी फूँकें तो गए , तन से सारे रोग(कुंडलिया)
Ravi Prakash
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
जीवन के रंग
जीवन के रंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नायक
नायक
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ की गोद में
माँ की गोद में
Surya Barman
Loading...