Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 28, 2022 · 2 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]

इस युद्ध ने न जाने कितने ही
माँ-बाप से ओलाद को छिन लिया है!
जिस ओलाद के लिए माँ ने
न जाने कितनी मिन्नत मांगी थी!

कहाँ- कहाँ वह बेचारी ,
इसके लिए न भागी थी!
आज अपने बच्चे की लाश,
अपने हाथों में लिए पड़ी है!

बार-बार वह अपने आँचल से,
उसके मुख को पोछ रही है!
उठ जाओ मेरे लाल ,
ऐसा बार बार वह बोल रही है!

उसकी आँखों से आँसु की
अब नदियाँ बह रही है!
बार- बार अपने बच्चे की
बेजान शरीर को कलेजे से लगा रही है!

न जाने उस बच्चे के लिए
वह कितनी रातें जागी थी!
बच्चे के एक खुशी के लिए उसने ,
अपनी सारी खुशियाँ त्यागी थी!

कहाँ कभी अपने लिए उसे
होश हुआ करता था!
बच्चे के आगे पीछे ही
उसका जीवन चलता था!

संसार की सारी खुशियाँ उसे,
उस बच्चे के माँ कहने पर ही
मिल जाती थी!
कहाँ वह बेचारी इससे ,
ज्यादा कुछ सोच पाती थी!

अब बेचारी क्या करेगी,
किसके लिए अब जियेंगी,
यह प्रश्न उसके मन में
बार-बार आ रहा था।

वही पर बैठा पिता अपने,
बच्चे को निहार रहा था ।
न जाने कब से सुध-बुध
खोकर ,
एक टक से बार-बार
देखे जा रहा था।

किसको अपने कंधो पर
बैठाकर अब मैं घुमाऊँगा!
अब किसको घोड़ा बनकर
मै अपने पीठ पर बेठाऊगाँ!

किसको हाथ पकड़कर
अब मै शहर दिखाऊंगा!
किसके किलकारी पर अब
मै ताली बजाऊँगा!

जब वह यहाँ- वहाँ छुप जाता था,
हम सबका प्राण निकल जाते थे!
अब जब वह मेरे पास नही है,
हम सब कैसे जी पाएँगे!

यह सब अपने बच्चे के
बेजान शरीर को देखकर
वह सोच रहा था ।
कब कैसे दिन गुजरेगा !
यह प्रश्न उसके सामने खड़ा था ?

~अनामिका

3 Likes · 109 Views
You may also like:
मित्र
लक्ष्मी सिंह
“ पहिल सार्वजनिक भाषण ”
DrLakshman Jha Parimal
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग- 2 और 3
Dr. Meenakshi Sharma
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
परिणय
मनोज कर्ण
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
Prabhudayal Raniwal
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
जीना मुश्किल
Harshvardhan "आवारा"
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️"नंगे को खुदा डरे"✍️
'अशांत' शेखर
शादी
विनोद सिल्ला
विभाजन की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
बहुमत
मनोज कर्ण
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
'अशांत' शेखर
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...