Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

याद

रिमझिम-रिमझिम बरसे सावन,
पल-पल, पल-पल बहके यह मन।

कुहू-कुहू कोयल गाये,
कोई मीठा गीत सुनाये।

दूर कहीं पर बोले पपीहा,
बार-बार डोले फिर जिया।

धीमे-धीमे बजती पायल,
नाचे मन मयूर बन पागल।

आया कोई है आया,
मन धीरे से फिर मुस्काया।

फर-फर, फर-फर चले पुरवाई,
आई किसी की याद है आई।

रचनाकार :- कंचन खन्ना, मुरादाबाद,
(उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार) ।
वर्ष :- २०१३.

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
जो किसी से
जो किसी से
Dr fauzia Naseem shad
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
gurudeenverma198
3128.*पूर्णिका*
3128.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
#प्रयोगात्मक_कविता-
#प्रयोगात्मक_कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
हे पैमाना पुराना
हे पैमाना पुराना
Swami Ganganiya
💐प्रेम कौतुक-163💐
💐प्रेम कौतुक-163💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फितरत
फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
पिता
पिता
Dr Manju Saini
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
पूर्वार्थ
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
अवसाद का इलाज़
अवसाद का इलाज़
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
Dr. Man Mohan Krishna
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
अथर्व आज जन्मदिन मनाएंगे
अथर्व आज जन्मदिन मनाएंगे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
🌲प्रकृति
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
कोठरी
कोठरी
Punam Pande
नज़र आसार-ए-बारिश आ रहे हैं
नज़र आसार-ए-बारिश आ रहे हैं
Anis Shah
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...