Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

मोहब्बत के गवाह

वो नदिया, वो दरिया,
वो फूलों की बगिया,
वो सरसों के खेत,
और उनकी मेङ,
वो अमराई की छांव,
वो नदिया की नाव,
वो चाय की प्याली,
वो जूठे बिस्किट की मिठास,
वो अटा का कोना,
वो अनजानी छुअन,
वो आंखों की शर्म,
वो चंचल होठों की मूकता,
वो सामने होकर भी
मिल न पाने की विवसता,
सभी थे गवाह,
मोहब्बत के मेरी,
पर प्रेम की कचहरी में,
वो किसी ओर के साथ थे,
और मुझ पर था,
मोहब्बत का इल्जाम
आज मैं था एक,
बेजुबान, निर्दोश, गुनहेगार,
मेरे सारे गवाह मौन थे,
वो नितांत गूंगे थे,
किसी ने मेरी,
गवाही न दी॥

पुष्प ठाकुर

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 212 Views
You may also like:
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
जियो उनके लिए/JEEYO unke liye
Shivraj Anand
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
गजानन
Seema gupta ( bloger) Gupta
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
सियासी क़ैदी
Shekhar Chandra Mitra
कहानी
Pakhi Jain
सुनो स्त्री
Rashmi Sanjay
किसने क्या किया
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल है स्वतंत्रता
Kavita Chouhan
“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”
DrLakshman Jha Parimal
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
देखते देखते
shabina. Naaz
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
✍️एक ना हुए साकार✍️
'अशांत' शेखर
मैं हासिल नही हूं।
Taj Mohammad
“ हमारा निराला स्पेक्ट्रम ”
Dr Meenu Poonia
क्या क्या कह दिया मैंने
gurudeenverma198
దీపావళి జ్యోతులు
विजय कुमार 'विजय'
नहीं हंसी का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD KUMAR CHAUHAN
*गंगा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
किसी कि चाहत
Surya Barman
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
पेड़
Sushil chauhan
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अख़बार में आ गएँ by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
Loading...