Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ

मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ।
कभी रोता हूँ मैं, कभी हँसता हूँ।।
मैं तन्हाई में———————-।।

तुम तो रहे आखिर, हमसे बड़े आदमी।
याद तुम्हें करने को, पैसा खर्च करता हूँ।।
मैं तन्हाई में———————-।।

पहनता हूँ कपड़ें मैं, तुमसे मिलने आने को।
देखकर वक़्त फिर, सामान नीचे रखता हूँ।।
मैं तन्हाई में———————-।।

तलाशता हूँ तुमको मैं, उन लिखें खतों में।
तुमको लिखें खतों को, मैं तलाशा करता हूँ।।
मैं तन्हाई में———————-।।

समझता हूँ मैं भी, तुम्हारी मजबूरी को।
तुम्हारे आने की राह, मैं देखा करता हूँ।।
मैं तन्हाई में———————-।।

नाम तो मेरे साथ ही, तुम्हारा भी होगा।
उसी रिश्तें के ख्वाब, मैं बुना करता हूँ।।
मैं तन्हाई में———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
Dr. Man Mohan Krishna
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उम्र आते ही ....
उम्र आते ही ....
sushil sarna
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
फार्मूला
फार्मूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
***संशय***
***संशय***
प्रेमदास वसु सुरेखा
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
goutam shaw
प्रदीप : श्री दिवाकर राही  का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
Ravi Prakash
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
उस जैसा मोती पूरे समन्दर में नही है
उस जैसा मोती पूरे समन्दर में नही है
शेखर सिंह
अनजान लड़का
अनजान लड़का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* मधुमास *
* मधुमास *
surenderpal vaidya
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
एक प्रार्थना
एक प्रार्थना
Bindesh kumar jha
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
Sonam Puneet Dubey
#विजय_के_23_साल
#विजय_के_23_साल
*प्रणय प्रभात*
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
मोहब्बत का पैगाम
मोहब्बत का पैगाम
Ritu Asooja
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
अंतिम क्षणों का संदेश
अंतिम क्षणों का संदेश
पूर्वार्थ
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
"न्यायालय"
Dr. Kishan tandon kranti
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
Loading...