Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

मेरे श्याम

हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने ..
नंद नंदन श्याम जग को . . है रिझाया आपने॥

ऐ मदन गोपाल सुनिए… मैं अकिंचन दीन हूँ
दीन हीनों को सदा ही … उर लगाया आपने॥

मैं दिवानी श्याम की हूँ.. ये सभी को है पता
हंस रहे हैं लोग मुझपर.. क्या रचाया आपने॥

प्यार मेरा आप ही हो…दूसरा कोई नहीं
गिर चुकी दुख कूप में थी…हाँ बचाया आपने॥

मैं न राधा और मीरा..मैं नहीं थी रुक्मिणी
नेह से मुझको भिगोया..पथ दिखाया आपने॥

आपकी ही भावना है.. सब जगत मैं जो बसी
पाप से सबको बचाया.. भव तराया आपने॥॥॥

533 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गोविंदा श्याम गोपाला
गोविंदा श्याम गोपाला
Bodhisatva kastooriya
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
*नव संवत्सर आया नभ में, वायु गीत है गाती ( मुक्तक )*
*नव संवत्सर आया नभ में, वायु गीत है गाती ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
नादां दिल
नादां दिल
Pratibha Kumari
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
2573.पूर्णिका
2573.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-175💐
💐प्रेम कौतुक-175💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ समय के साथ सब बदलता है। कहावतें भी। एक उदाहरण-
■ समय के साथ सब बदलता है। कहावतें भी। एक उदाहरण-
*Author प्रणय प्रभात*
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
"सुबह की चाय"
Pushpraj Anant
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
Anis Shah
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
श्री राम जी अलौकिक रूप
श्री राम जी अलौकिक रूप
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
सृजन पथ पर
सृजन पथ पर
Dr. Meenakshi Sharma
पिता
पिता
Kanchan Khanna
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"पलायन"
Dr. Kishan tandon kranti
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sakshi Tripathi
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
लक्ष्मी सिंह
Loading...