Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 28, 2016 · 1 min read

मेरे श्याम

हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने ..
नंद नंदन श्याम जग को . . है रिझाया आपने॥

ऐ मदन गोपाल सुनिए… मैं अकिंचन दीन हूँ
दीन हीनों को सदा ही … उर लगाया आपने॥

मैं दिवानी श्याम की हूँ.. ये सभी को है पता
हंस रहे हैं लोग मुझपर.. क्या रचाया आपने॥

प्यार मेरा आप ही हो…दूसरा कोई नहीं
गिर चुकी दुख कूप में थी…हाँ बचाया आपने॥

मैं न राधा और मीरा..मैं नहीं थी रुक्मिणी
नेह से मुझको भिगोया..पथ दिखाया आपने॥

आपकी ही भावना है.. सब जगत मैं जो बसी
पाप से सबको बचाया.. भव तराया आपने॥॥॥

386 Views
You may also like:
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
आदर्श पिता
Sahil
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
कर्म का मर्म
Pooja Singh
अनमोल राजू
Anamika Singh
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता का दर्द
Nitu Sah
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कशमकश
Anamika Singh
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
Loading...