Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

मेरे श्याम

हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने ..
नंद नंदन श्याम जग को . . है रिझाया आपने॥

ऐ मदन गोपाल सुनिए… मैं अकिंचन दीन हूँ
दीन हीनों को सदा ही … उर लगाया आपने॥

मैं दिवानी श्याम की हूँ.. ये सभी को है पता
हंस रहे हैं लोग मुझपर.. क्या रचाया आपने॥

प्यार मेरा आप ही हो…दूसरा कोई नहीं
गिर चुकी दुख कूप में थी…हाँ बचाया आपने॥

मैं न राधा और मीरा..मैं नहीं थी रुक्मिणी
नेह से मुझको भिगोया..पथ दिखाया आपने॥

आपकी ही भावना है.. सब जगत मैं जो बसी
पाप से सबको बचाया.. भव तराया आपने॥॥॥

431 Views
You may also like:
वीरों को युद्ध आह्वान.....
Aditya Prakash
✍️वो मुर्दा ही जीकर गये✍️
'अशांत' शेखर
संगीत
Surjeet Kumar
पापा
Anamika Singh
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
उर्मिला के नयन
Shiva Awasthi
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
** मेरे खुदा **
Swami Ganganiya
माता-पिता की जान है उसकी संतान
Umender kumar
■ एक सलाह, नेक सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
हमने खुद को
Dr fauzia Naseem shad
इश्क की आग।
Taj Mohammad
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
*ढ* और *ढ़* का अंतर व्हाट्सएप समूह पर सीखा
Ravi Prakash
जब 'बुद्ध' कोई नहीं बनता।
Buddha Prakash
मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
मोहन
मोहन
मिली सफलता
श्री रमण 'श्रीपद्'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
“ अभिव्यक्ति क स्वतंत्रता केँ पूर्वाग्रसित सँ अलंकृत जुनि करू...
DrLakshman Jha Parimal
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
सलाम
Shriyansh Gupta
भड़काऊ भाषण
Shekhar Chandra Mitra
मेरी आँख वहाँ रोती है
Ashok deep
इक परिन्दा ख़ौफ़ से सहमा हुुआ हूँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बढ़ते जाना है
surenderpal vaidya
छुपा लो मुझे तेरे दिल में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आए आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...