Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,

मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
इसे मोहब्बत से जी ले जरा!!!
यूं लड़ना क्या किसी से,,,
तू अपना सबको ही ले बना!!!…

खुदा सबका निगहबां है,,,
चोरी छिपे ना कर तू गुनाह!!!
मंजिल मिल ही जायेगी,,,
साथ चलता है जब कारवां!!!…

ये माना कि गम है बहुत,,,
पर खुशियां भी तो है अता!!!
हर नसीब को लिखा है,,,
खुदा सबका ही है रहनुमां!!!…

लकीरें हैं तेरे भी हाथों में,,,
तू लिख खुद अपनी दास्तां!!!
हासिल बन दुआओं का,,,
फिर जीने में आता है मजा!!!…

सिफारिश कहीं न होगी,,,
हर गुनाह की है यहां सजा!!!
मिलें गम या मिलें खुशी,,,
उड़ जायेगा हो जैसा धुआं!!!

आयत सा पढ़ते है तुम्हें,,,
लबों पे हो जैसे कोई दुआ!!!
जब मुकद्दर हो दुश्मन,,,
करे तो क्या करे कोई इंसा!!!…

ताज मोहम्मद
लखनऊ

318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
शायर जानता है
शायर जानता है
Nanki Patre
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
gurudeenverma198
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
ऐतबार कर बैठा
ऐतबार कर बैठा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
इज़हार ज़रूरी है
इज़हार ज़रूरी है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
Anand Kumar
मां की कलम से!!!
मां की कलम से!!!
Seema gupta,Alwar
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हे पैमाना पुराना
हे पैमाना पुराना
Swami Ganganiya
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
*झूला सावन मस्तियॉं, काले मेघ फुहार (कुंडलिया)*
*झूला सावन मस्तियॉं, काले मेघ फुहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
Ravi singh bharati
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
23/17.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/17.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...