Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2016 · 1 min read

-:मिलन की आहट:-

मेघा आज
सफ़ेद लिबास में
चाँद को लपेटकर
अभी अभी शाम को
अनंत अंबर में लेकर आई है
कितनी प्यारी लगती है
चारों तरफ से घिरे
काले बादलों के बीच
उनकी मोहक धवल छवि
मानो कोई प्रेयसी
सजधज कर आई हो
मिलन की आस में
एक लंबी विरह के बाद
मिलने अपने प्रियतम से
मनमुग्ध कर लेना
चाहती हो इसबार उसे
इस कदर कि
इस मिलन के बाद
फिर दुबारा कभी
बिछुड़न की टीस
न आये उनके जीवन में
सोलह शृंगार में सजी
बिखरे ज़ुल्फों को
आजाद कर उनकी अदाओं में
कजरारे आँखों में
एक अतृप्त प्यास लेकर
अपने अधरों पर
मधुर मुस्कान बिखेरते हुए
देख रही है अपलक उन राहों को
जिनसे होकर शायद अभी
मिलन की आहट
सुनाई देगी उनके कानों को
और समेट लेगी फिर
अपने गुलाबी पंखुड़ी आगोश में
अपने भँवरा को सदा के लिए
प्रकाश यादव “निर्भीक”
बड़ौदा – 03.06.2016

Language: Hindi
724 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
2617.पूर्णिका
2617.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
Vishal babu (vishu)
किसी ने सही ही कहा है कि आप जितनी आगे वाले कि इज्ज़त करोंगे व
किसी ने सही ही कहा है कि आप जितनी आगे वाले कि इज्ज़त करोंगे व
Shankar N aanjna
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्रेम जब निर्मल होता है,
प्रेम जब निर्मल होता है,
हिमांशु Kulshrestha
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
एक कविता उनके लिए
एक कविता उनके लिए
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सृजन पथ पर
सृजन पथ पर
Dr. Meenakshi Sharma
*आता मौसम ठंड का, ज्यों गर्मी के बाद (कुंडलिया)*
*आता मौसम ठंड का, ज्यों गर्मी के बाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
Loading...