Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 1 min read

मित्रपाल शिशौदिया “मित्र”

आ गया है क्या जमाना आजकल
आदमी झूठा फसाना आजकल

कर रहा है वो सितम हर बात पर
लग रहा हक पर निशाना आजकल

बात दौलत की हमेशा ही करे
मिट रहा सच का खजाना आजकल

बात रिश्तों की करेगा जब मिले
हो रहा मुस्किल निभाना आजकल

अब भरोसा आदमी पर है नही
लाजमी है आजमाना आजकल
****************************
मित्रपाल शिशौदिया “मित्र”
2122 2122 212

1 Comment · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पेंसिल और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
खाना-कमाना सीखिगा, चोरियॉं अच्छी नहीं (हिंदी गजल/ गीतिका)
खाना-कमाना सीखिगा, चोरियॉं अच्छी नहीं (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-223💐
💐प्रेम कौतुक-223💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
गुरुकुल शिक्षा
गुरुकुल शिक्षा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
When compactibility ends, fight beginns
When compactibility ends, fight beginns
Sakshi Tripathi
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
“ सबकेँ स्वागत “
“ सबकेँ स्वागत “
DrLakshman Jha Parimal
श्राद्ध पक्ष के दोहे
श्राद्ध पक्ष के दोहे
sushil sarna
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
Satyaveer vaishnav
ख़ुद को ख़ोकर
ख़ुद को ख़ोकर
Dr fauzia Naseem shad
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
क्या यही ज़िंदगी है?
क्या यही ज़िंदगी है?
Shekhar Chandra Mitra
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
एक जिंदगी एक है जीवन
एक जिंदगी एक है जीवन
विजय कुमार अग्रवाल
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
कभी किसी की मदद कर के देखना
कभी किसी की मदद कर के देखना
shabina. Naaz
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
Loading...