Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 1 min read

मित्रपाल शिशौदिया “मित्र”

आ गया है क्या जमाना आजकल
आदमी झूठा फसाना आजकल

कर रहा है वो सितम हर बात पर
लग रहा हक पर निशाना आजकल

बात दौलत की हमेशा ही करे
मिट रहा सच का खजाना आजकल

बात रिश्तों की करेगा जब मिले
हो रहा मुस्किल निभाना आजकल

अब भरोसा आदमी पर है नही
लाजमी है आजमाना आजकल
****************************
मित्रपाल शिशौदिया “मित्र”
2122 2122 212

1 Comment · 125 Views
You may also like:
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
जो मैंने देखा...
पीयूष धामी
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
कवित्त
Varun Singh Gautam
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
राधा
सूर्यकांत द्विवेदी
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
'ख़त'
Godambari Negi
मौसम
Surya Barman
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
'अशांत' शेखर
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम भी क्या दीवाने हुआ करते थे
shabina. Naaz
अश्रुपात्र... A glass of tears भाग - 4
Dr. Meenakshi Sharma
दिन रात।
Taj Mohammad
*उत्तर-दक्षिण एक, तमिल हो अथवा काशी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुकद्दर ने
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
नीली साइकिल वाली लड़की
rkchaudhary2012
अंदर से टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
योग
DrKavi Nirmal
स्वामी विवेकानंद से पंडिता रमाबाई का डिबेट
Shekhar Chandra Mitra
*"वो भी क्या दीवाली थी"*
Shashi kala vyas
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
Ram Krishan Rastogi
फूल की ललक
विजय कुमार 'विजय'
तिरंगा मन में कैसे फहराओगे ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...