Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

मानवता

मत करना विश्वास कभी भी,चापलूस और गद्दारों पर।
हर व्यक्ति को चलना होता है,केवल अपने ही पैरों पर।।
भार कभी नहीं पड़ने देना ,अपनों का कभी गैरों पर।
साथ सभी के मिलकर चलना,फैलाना खुशियां सभी के चेहरों पर।।
जो रखता विश्वास है खुद पर,वह हार कभी नहीं पाता है।
लेकर चले जो साथ सभी का,वही तो जीत का बिगुल बजाता है।।
मेहनत करने वाला ही दुनिया में,कठिन से कठिन कार्य कर पाता है।
मुश्किलों का डट कर करे सामना,जग में सफल वही हो पाता है।।
अपने आत्मविश्वास के बल पर ही, हर जीत तुझे मिल जाती है।
जो जीत को हासिल करते हैं,उनकी दुनिया पतझड़ में भी खिल जाती है।।
करके पर उपकार जो उसको,दूजे पर कभी नहीं जतलाता है।
सच्ची मानवता की मिसाल,वही व्यक्ति कायम कर पाता है।।
कहे विजय बिजनौरी यह रिश्ता,मानवता का सबसे उत्तम पाया जाता है।
और मानवता का धर्म ही समाज में सबसे पावन धर्म बताया जाता है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
Rajesh vyas
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बथुवे जैसी लड़कियाँ /  ऋतु राज (पूरी कविता...)
बथुवे जैसी लड़कियाँ / ऋतु राज (पूरी कविता...)
Rituraj shivem verma
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
gurudeenverma198
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल (मिलोगे जब कभी मुझसे...)
ग़ज़ल (मिलोगे जब कभी मुझसे...)
डॉक्टर रागिनी
बलात-कार!
बलात-कार!
अमित कुमार
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"कहाँ छुपोगे?"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
काश - दीपक नील पदम्
काश - दीपक नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*सारा हिंदुस्तान है, मोदी का परिवार (कुंडलिया)*
*सारा हिंदुस्तान है, मोदी का परिवार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अपवित्र मानसिकता से परे,
अपवित्र मानसिकता से परे,
शेखर सिंह
तू है
तू है
Satish Srijan
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सहज - असहज
सहज - असहज
Juhi Grover
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
गांव और वसंत
गांव और वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
👍
👍
*प्रणय प्रभात*
Love life
Love life
Buddha Prakash
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...