Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 2 min read

* माथा खराब है *

डॉ अरुण कुमार शास्त्री // एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त

माथा ख़राब है अजि मेरा माथा ख़राब है
मुझसे मत उलझना मेरा मन बेताब है।।
स्वभाव से हूँ कोमल कर्म से सजग
इंसान के कर्तव्य सा एक दम कड़क
चूक जाना मेरे लिए मरण के समान है
मंजिल पर नजर यही मेरा निशान है
जबसे हुआ हूँ पैदा मैं जिंदगी से लड़ रहा
अपने पूर्व कर्म का मैं हिसाब सब दे रहा।।
जानता हूँ पागल नहीं हूँ प्रारब्द्ध की दिशा
क्या किये थे कार्य अज्ञान से तब न था पता
मन वचन और कर्म का बेढव हिसाब है
माथा ख़राब है अजि मेरा माथा ख़राब है।।
फेरिस्त क्या करेगी मुआफ़ी भी न मिलेगी
भुगतूँगा सिलसिले से अब ये ही अजाब है
माथा ख़राब है अजि मेरा माथा ख़राब है
मुझसे मत उलझना मेरा मन बेताब है।।
उल्फ़त के लुत्फ़ का साहिब स्वाद है गज़ब
जिसने चख़ा नहीं , तो वो शख़्स है अज़ब।।
एक एक पल मेहबूब के साथ का देता बड़ा मज़ा
हैरान क्यूँ है अब जो तुझको मिल रही सज़ा।।
माथा ख़राब है अजि मेरा माथा ख़राब है
मुझसे मत उलझना मेरा मन बेताब है।।
*बालक अबोध हूँ, मैं, मुझको तो होश ही नहीं
कर दिया सो कर दिया, अब सोचता जरा ।।
कथनी और करनी की सुनी कथा खूब है
संभव न हो सका कोशिश भी करी खूब है
तर बतर पसीने से फिर भी थका नहीं तनिक
बस मेहनत ही मेरा राम है और मिरा खुदा ।
माथा ख़राब है अजि मेरा माथा ख़राब है
मुझसे मत उलझना मेरा मन बेताब है।।

2 Likes · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ Rãthí
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
💐प्रेम कौतुक-266💐
💐प्रेम कौतुक-266💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
असंवेदनशीलता
असंवेदनशीलता
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मच्छर
मच्छर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3083.*पूर्णिका*
3083.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
पत्थर दिल समझा नहीं,
पत्थर दिल समझा नहीं,
sushil sarna
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
*जल्दी उठना सीखो (बाल कविता)*
*जल्दी उठना सीखो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
Er.Navaneet R Shandily
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
बचपन
बचपन
Anil "Aadarsh"
इसकी तामीर की सज़ा क्या होगी,
इसकी तामीर की सज़ा क्या होगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चाहता हूं
चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
रात क्या है?
रात क्या है?
Astuti Kumari
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
जीतना
जीतना
Shutisha Rajput
जो बेटी गर्भ में सोई...
जो बेटी गर्भ में सोई...
आकाश महेशपुरी
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
"जिंदगी"
नेताम आर सी
"चरित्र-दर्शन"
Dr. Kishan tandon kranti
***
*** " चौराहे पर...!!! "
VEDANTA PATEL
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...