Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

*मां*

मां
मां जो रहती पास मेरे तुम,
आलिंगन से मुझे लगाती।

कुछ ना कह पाती मैं जब,
शब्द मेरे तुम बन जाती।
रुदन मेरा सुनकर के तुम,
पुचकारकर चुप मुझे कराती।
नज़र न लग जाए स्वयं की,
काला टीका मुझे लगती।

मां जो रहती पास मेरे तुम,
आलिंगन से मुझे लगाती ।

जब क्षुधा मुझे होती,
खाली पेट तुम्हारा हो जाता।
जब तृष्णा मुझे हो जाती,
कंठ तुम अपना सुखाती।
अश्रु बहता देख मेरे,
मन ही मन तुम रो जाती।

मां जो रहती तुम पास मेरे,
आलिंगन से मुझे लगाती।

मां जब भी मैं गिरकर,
चोटिल हो जाती,
पीड़ा में देख मुझे,
रो-रो कर औषधि मुझे पिलाती।
बहते अश्रु चक्षु से मेरे,
पर अंतरमन से
चोटिल तुम हो जाती।
चिंतित रहती रात्रि भर,
जगकर स्वयं मुझे सुलाती।

मां जो रहती पास मेरे तुम,
आलिंगन से मुझे लगाती।

आज नहीं तुम पास मेरे,
बस यादें बचपन की साथ मेरे।
दिन भर कुछ पल की बातों से,
मन मैं अपना तृप्त कर पाती।

मां जो रहती तुम पास मेरे,
आलिंगन से मुझे लगाती।

दूर भले तुम दृष्टि से,
असमंजस में मैं पड़ जाती,
जाने किन एहसासों से,
मेरी सारी विकलताओं को,
पलभर में तुम समझ जाती।

मां जो रहती पास मेरे तुम,
आलिंगन से मुझे लगाती।
मां जो रहती पास मेरे तुम,
आलिंगन से मुझे लगाती।।
डॉ प्रिया

Language: Hindi
1 Like · 28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मैं जैसा हूँ लोग मुझे वैसा रहने नहीं देते
मैं जैसा हूँ लोग मुझे वैसा रहने नहीं देते
VINOD CHAUHAN
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क का इंसाफ़।
इश्क का इंसाफ़।
Taj Mohammad
ऐसा कभी नही होगा
ऐसा कभी नही होगा
gurudeenverma198
2430.पूर्णिका
2430.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शब्द
शब्द
Paras Nath Jha
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
* बातें व्यर्थ की *
* बातें व्यर्थ की *
surenderpal vaidya
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
एक अधूरे सफ़र के
एक अधूरे सफ़र के
हिमांशु Kulshrestha
तन मन में प्रभु करें उजाला दीप जले खुशहाली हो।
तन मन में प्रभु करें उजाला दीप जले खुशहाली हो।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
Manoj Mahato
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़िंदगी नाम बस
ज़िंदगी नाम बस
Dr fauzia Naseem shad
मैं ख़ुद डॉक्टर हूं
मैं ख़ुद डॉक्टर हूं" - यमुना
Bindesh kumar jha
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
Loading...