Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

माँ का आँचल

स्वर्ग – सा था ,
सुन्दर तो बहुत था ।
बचपन का अपना घर,
माँ का वो आँचल ही तो था ।

कूलर-सा था,
कोमल तो बहुत था ।
गर्मी का पंखा सा था ,
माँ का वो आँचल ही तो था ।

धूप में छाँव सा था,
ठंडक तो बहुत था।
धूप का छाता था,
माँ का वो आँचल ही तो था ।

लालीपन को हटाने वाला ,
वो फूँका हुआ गरम कपड़ा था ।
आँखो का दवा-सा था ,
माँ का वो आँचल ही तो था ।

रस्सी के गाँठ की तरह ,
घरों का मजबूत ताला था ।
बच्चों का तिजोरी था ,
माँ का वो आँचल ही तो था ।

वह जगह ऐसा था
जहाँ, ना डर था ,
ना कोई कष्ट था ,
माँ का वो आँचल ही तो था ।

ये भगवान का उपहार है ,
मेरे लिए जन्न्नत से भी उपर है ।
मेरे जीवन का डोरी है,
मेरी माँ सविता का वो आँचल ही तो है।

5 Likes · 2 Comments · 482 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड्ड यत्न सँ हम
बड्ड यत्न सँ हम
DrLakshman Jha Parimal
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वक़्त का समय
वक़्त का समय
भरत कुमार सोलंकी
■ यूज़ कर सकते हैं, स्टोरेज़ नहीं। मज़ा लें पूरी तरह हर पल का।
■ यूज़ कर सकते हैं, स्टोरेज़ नहीं। मज़ा लें पूरी तरह हर पल का।
*प्रणय प्रभात*
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
Mahima shukla
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
"दिमागी गुलामी"
Dr. Kishan tandon kranti
"बचपन"
Tanveer Chouhan
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संस्कारों की रिक्तता
संस्कारों की रिक्तता
पूर्वार्थ
वाणी में शालीनता ,
वाणी में शालीनता ,
sushil sarna
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
ऐ ज़िन्दगी!
ऐ ज़िन्दगी!
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पौधे मांगे थे गुलों के
पौधे मांगे थे गुलों के
Umender kumar
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
किसने क्या खूबसूरत लिखा है
किसने क्या खूबसूरत लिखा है
शेखर सिंह
भ्रातत्व
भ्रातत्व
Dinesh Kumar Gangwar
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
Loading...