Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

* मधुमास *

** मुक्तक **
~~
आ गया उत्सव बसंती ज्ञान दो मां शारदे।
जिन्दगी आलोक से भरपूर हो मां शारदे।
खूबसूरत खिलखिलाता हो गया वातावरण।
भक्तिमय शुभ भावना हर मन बसो मां शारदे।
~~
आ गया मधुमास लेकर पुष्प का उपहार।
खूब उमड़ा जा रहा है हर हृदय में प्यार।
अधखुली अखियां अनेकों देखती हैं स्वप्न।
आज सब पावन धरा पर हो रहे साकार।
~~
ऋतु बदलती जा रही सब कर रहे गुणगान।
गुनगुनाते अलि तितलियां कर रही रसपान।
जब बसंती रंग बिखरे जा रहे हर ओर।
और हर सुन्दर अधर पर खिल रही मुस्कान।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १५/०२/२०२४

2 Likes · 1 Comment · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
*तेरा साथ (13-7-1983)*
*तेरा साथ (13-7-1983)*
Ravi Prakash
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भ्रम का जाल
भ्रम का जाल
नन्दलाल सुथार "राही"
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
जीवन में
जीवन में
ओंकार मिश्र
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
विचारिए क्या चाहते है आप?
विचारिए क्या चाहते है आप?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
Anis Shah
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
शेखर सिंह
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
Dr.Khedu Bharti
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*Author प्रणय प्रभात*
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कवि दीपक बवेजा
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
Loading...