Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम

मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
ग्लोबल दुनिया हो गई, पैसे की है वूम
ठंड कड़ाके की बढ़ी,बर्फ की पड़ी फुहार
मौसम की इस धुंध से, धूप मान गई हार
ऐसे मौसम में हुआ, सन् चौबीस का आगाज
अपनी अपनी रूचि से,बजा रहे सब साज
सारी रेलें फुल हुईं,भर गए हबाई जहाज
होटल सारे बुक हुए, रेस्टोरेंट और लाज
कोई आउटिंग कर रहे, कहीं छलकते जाम
आगंतुकों से हो गए,हिल स्टेशन हैरान
कहने को कहते सभी, नहीं हमारा साल
खुद आंखों से देख लो, इस दुनिया का हाल
नववर्ष २०२४ समस्त मानव जाति को शुभ हो
मानव एवं मानवता पुष्ट हो।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-435💐
💐प्रेम कौतुक-435💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
पूर्वार्थ
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
पर्यावरण
पर्यावरण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"लाइलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
कलयुगी की रिश्ते है साहब
कलयुगी की रिश्ते है साहब
Harminder Kaur
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गुजरे वक्त के सबक से
गुजरे वक्त के सबक से
Dimpal Khari
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
देशभक्ति पर दोहे
देशभक्ति पर दोहे
Dr Archana Gupta
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
Omee Bhargava
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
काश.......
काश.......
Faiza Tasleem
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Tufan ki  pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Tufan ki pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Sakshi Tripathi
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
हास्य कुंडलियाँ
हास्य कुंडलियाँ
Ravi Prakash
*लफ्ज*
*लफ्ज*
Kumar Vikrant
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
है हिन्दी उत्पत्ति की,
है हिन्दी उत्पत्ति की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
2229.
2229.
Dr.Khedu Bharti
Loading...