Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 1 min read

भूमि भव्य यह भारत है!

—- —— ——– —–
भूमि भव्य वह भारत है,
जो चिंतन-मंथन में रत है।
भूमि भव्य यह भारत है।

सभ्यताओं ने नेत्र खोले,
सीखने लगे लिपि औ’ भाषा।
हमने तब सरस्वती के तट,
दिए विपुल वैदिक परिभाषा।

खगोल,गणित,दर्शन,साहित्य
जगभर को हमने दान किया।
अष्टाध्यायी , योगसूत्र, पर
हमने न तनिक अभिमान किया।

इतिहास सुनिष्ठा से नत है,
भूमि भव्य यह भारत है।

लौकिक सुख तृण सम त्याग दिया
ऋषियों ने ‘बुद्ध’ कमाने को।
हैं हुए प्रकट बहु देव यहां,
जीवन का मर्म बताने को।

होम किया सर्वस्व जिन्होंने,
प्रण की रक्षा में दिए प्राण।
उन महावीर व्रतपालक पर,
होता हमें असीम अभिमान!

अविचल देवव्रत का व्रत है,
भूमि भव्य यह भारत है।

-सत्यम प्रकाश ‘ऋतुपर्ण’

1 Like · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
Akash Yadav
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
23/116.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/116.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
*रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता,*
*रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता,*
शेखर सिंह
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
ब्रांड. . . .
ब्रांड. . . .
sushil sarna
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
gurudeenverma198
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
"ख़ासियत"
Dr. Kishan tandon kranti
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
पतंग*
पतंग*
Madhu Shah
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
यादों में ज़िंदगी को
यादों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
Pratibha Pandey
धीरज और संयम
धीरज और संयम
ओंकार मिश्र
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*प्रणय प्रभात*
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
Sanjay ' शून्य'
Loading...