Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 2 min read

भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा

आजादी का अमृत महोत्सव—-

आज़ादी अमृत महोत्सव
भारत की आज़ादी का
इतिहास लिखुंगा।।
जन गण मन वंदे मातरम गान लिखूंगा।।

मर्यादा का राम, कृष्णा का
गीता ज्ञान, कुरुक्षेत्र संग्राम लिखुंगा।।

अन्याय अत्याचार का काल परशुराम
लिखूंगा।।

चाणक्य चंद्र गुप्त भारत बृहद का मान
लिखूंगा।।

गद्दारी बीमारी महामारी मीर जाफर जयचंद काल का पृथ्वी राज चौहान लिखुंगा।।

राणा सांगा के अस्सी घाव मेवाड़ मुकुट प्रताप लिखूंगा।।

जय भवानी जगदम्ब शिवा मराठा
छत्रप मान लिखुंगा।।

गुरुओं की कुर्बानी पंजाब पंजावियत परम्परा सांस्कार लिखुंगा।।

आजादी की चिंगारी ज्वाला मंगल
पांडेय पुरुषार्थ लिखूंगा।।

खूब लड़ी मर्दानी झांसी की रानी
वीरांगना का युद्ध शौर्य अभिनंन्दन अरमान लिखुंगा।।

लोक मान्य का शंखनाद स्वतंत्रता
जन्म सिद्ध अधिकार लिखुंगा।।

सत्य अहिंसा का गांधी गोरों पर
शांत प्रहार लिखुंगा।।

खून और आज़ादी काआवाहन नेता
सुभाष लिखुंगा।।

खुदीराम, लाला लाजपत ,राय, भगत
असफाक ,विस्मिल ,रोशन ,लाड़िली
राजेन्द्र ,चंद्रशेखर ,आजाद लिखुंगा।।

आजादी के त्याग बलिदानों की
काकोरी,चौरी चौरा,डायर की बर्बरता
का जालियांवाला बाग लिखुंगा।।

खंड खंड में बंटे रियासत एकात्म
भारत शिल्पी बल्लभ सरदार लिखुंगा।।

आसमानो के आसमान लहराता तिरंगा आजादी का मुस्कान लिखुंगा।।
आजादी का मतलब महत्व का
वर्तमान लिखूंगा।।

धर्म नाम पर जिन्ना जिद का
नापाक इरादों का पाकिस्तान
लिखुंगा।।

स्वीकार नही भारत की बैभव
शक्ति छद्म धर्म निरपेक्षता नाम
पर छुपे आस्तीन के स्वान गद्दार
लिखुंगा।।

ड्रेगन की शरारत दहसत खौफ
विस्तार का धोखे का डोकलाम
लिखुंगा।।

आज़ाद भारत के जन जन को आवाहन जीवेत जाग्रतं का शंख
नाद लिखुंगा।।

एक राष्ट्र दो विधान से मुक्त
भारत एक राष्ट्र एक विधान का
संकल्प अतीत की भूलों का सुधार
नर नरेंद्र का पुरुषार्थ लिखुंगा।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीतांम्बर गोरखपुर उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
★अनमोल बादल की कहानी★
★अनमोल बादल की कहानी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का  खेल।
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का खेल।
Manoj Mahato
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
3184.*पूर्णिका*
3184.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
कविवर शिव कुमार चंदन
कविवर शिव कुमार चंदन
Ravi Prakash
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
ना कोई हिन्दू गलत है,
ना कोई हिन्दू गलत है,
SPK Sachin Lodhi
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
पैसा ना जाए साथ तेरे
पैसा ना जाए साथ तेरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
याद हो बस तुझे
याद हो बस तुझे
Dr fauzia Naseem shad
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
आवो पधारो घर मेरे गणपति
आवो पधारो घर मेरे गणपति
gurudeenverma198
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
जिंदगी तेरे हंसी रंग
जिंदगी तेरे हंसी रंग
Harminder Kaur
क्यों बदल जाते हैं लोग
क्यों बदल जाते हैं लोग
VINOD CHAUHAN
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
ख्वाब
ख्वाब
Dinesh Kumar Gangwar
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
■
■ "अ" से "ज्ञ" के बीच सिमटी है दुनिया की प्रत्येक भाषा। 😊
*प्रणय प्रभात*
* पहचान की *
* पहचान की *
surenderpal vaidya
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...