Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

*बेटी*

बेटी नहीं है कोई बोझ
फिर क्यूँ कोख में मरे ये रोज?
ईश्वर का वरदान है बेटी
सकल गुणों की खान है बेटी
मात-पिता की जान है बेटी
बेटों से भी महान है बेटी
घर को स्वर्ग बनाती बेटी
गम में भी मुस्काती बेटी
गीत खुशी के गाती बेटी
दुखड़ा कभी न सुनाती बेटी
इनसे ही है घर में मौज
करो ना इनको तुम जमींदोज
बेटी नहीं है कोई बोझ
फिर क्यूँ कोख में मरे ये रोज?
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

229 Views
You may also like:
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
✍️माय...!✍️
"अशांत" शेखर
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
✍️इँसा और परिंदे✍️
"अशांत" शेखर
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
पिता
Manisha Manjari
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चिड़ियाँ
Anamika Singh
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
Is It Possible
Manisha Manjari
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
सहारा मिल गया होता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Loading...