Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 2 min read

बेटी के अंतर्मन की व्यथा

कल तक मैं एक अंश मात्र थी,पर आज साकार हूँ, आकर इस दुनिया में और देख के इसके रंग, मैं दुविधा में पड़ गयी हूँ और यह सोचने को मजबूर हो गयी हूँ
मैं क्या हूँ ,क्यों हूँ और क्या है मेरा अस्तित्व
यह विचारने के लिए मैं आज अपनी यात्रा पर शुरू से निकल पड़ी
पहले थी मैं इस शुन्य अनंत में विरचती हुई, धीरे धीरे मेरा अंकुरण हुआ फिर आकृति बनी, मैं माँ के भीतर ही धूप, हवा, पानी, खुशबू सब कुछ महसूस करती और अपने आप को सुरक्षित समझती, धीरे धीरे यह सुहानी दुनिया मुझे आकर्षित करने लगी और मैं जल्दी जल्दी इस नयी दुनिया में आने के सपने देखने लगी, इंतजार की बेला समाप्त हुई, आखिर वो दिन आ गया जब मैने इस रंग बिरंगी दुनिया में आँखें खोली, मैं बहुत खुश थी, सबसे मिलना चाहती थी , पर इस जहाँ में लाने वाली माँ की बाहों में झूलकर सबसे पहले शुक्रिया कहना चाहती थी, पर यह क्या मेरे आने पर मेरी माँ की आँख में आंसू और चेहरे पर कोई ख़ुशी नहीं, मैं कुछ समझ नहीं पा रही थी, अंजानी सी घबराई हुई सी सबके चेहरे को निहार रही थी कि शायद ख़ुशी से कोई मुझे गले लगा ले, पर मेरे आने से कोई खुश नहीं था क्योंकि मैं एक लड़की थी, पर क्या यही मेरा कसूर है, मैं यही सोच रही थी कि माँ मैं तुम्हारा अंश थी, जब मैं शरारतें करती तब तुम मुझे सिर्फ महसूस कर ख़ुशी से फ़ूली न समाती और मेरे आने का पल पल इन्तजार करती थीं, आखिर जब इन्तजार की बेला समाप्त हुई तो सबके चेहरों की ख़ुशी दुःख में बदल गयी, आखिर क्यों…, मैं यह सब जानने की कोशिश कर रही थी कि तभी मेरी दादी माँ आयी, मैं उन्हें देख कर बहुत खुश थीऔर चाहती थी की जल्द ही उनकी बाहों में झूलूँ, पर यह क्या मुझे देखते ही उनके चेहरे की रंगत उड़ गयी ,और बोली लो बढ़ गया एक और बोझ, उन्होंने तो जैसे नामकरण से पहले मेरा नाम रख दिया हो और वो भी बोझ, मैं बहुत उदास हो गयी थी, और कुछ समझ न पा रही थी, अपना ध्यान दिलाने के लिए बस रोये जा रही थी रोये जा रही थी, कि तभी माँ ने डाँट लगायी, कितना रोये जा रही है, माँ तुम अपने अंश को ही न समझ पायी, मैं तो यह बता रही थी कि मैं बोझ नहीं तुम्हारी छाया हूँ , तुम्हारे आँखों के आंसू नहीं ज्योति हूँ, होती नहीं बेटियाँ बोझ ये तो जीवन का आधार है, जीवनदायिनी ये तो शक्ति का अवतार है, जरूरत है सोच बदलने की, नारी तिरस्कार मिटाना है,तोड़ कर बंदिशों की जंज़ीरें , आगे कदम बढ़ाना है, बेटा- बेटी के अंतर को मिटाना है।

1 Like · 1 Comment · 716 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"उपबन्ध"
Dr. Kishan tandon kranti
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
क़यामत
क़यामत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
रोना भी जरूरी है
रोना भी जरूरी है
Surinder blackpen
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
Vindhya Prakash Mishra
2475.पूर्णिका
2475.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
संसद
संसद
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक हमारे मन के भीतर
एक हमारे मन के भीतर
Suryakant Dwivedi
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
Sunil Suman
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
Neeraj Agarwal
नादानी
नादानी
Shaily
Loading...