Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 1 min read

बेटियाँ——–“सुन रहे हो बाबा”

एक बेटी की बात अपने पिता से—-

सुन रहे हो बाबा !

जगाये थे जब मैंने
दबे अहसास
लिख डाले थे, अधरों पर
रुके अल्फाज़,
तुमने आँखें तरेर
मचाया था कोहराम
और डायरी जला
लगाया था विराम,
बारहवीं उत्तीर्ण होते ही
बजा दी थी शहनाई
पंख दिए थे काट
मुरझाई थी तरुणाई।

सुन रहे हो बाबा !!

कितना था समझाया
न सुनी माँ की तुमने
घुटे अरमानों तले
ली थी विदाई हमने,
ससुराल पहुँच बंध गयी
गृहस्थी के बोझ तले
मसल गयी कली
पुरुषत्व के वजूद तले,
बन चार बच्चों की माँ
रम गयी दरख़्तों में,
भावों को था बहा दिया
अल्फ़ाज़ों को अश्क़ों में।

सुन रहे हो बाबा !!!

पचास बसंत आज पार किये
पर तुमको भूल न पाई मैं
कविता रचने का अहसास
शायद तुम्हीं से पाई मैं,
तुम्हारे रौद्र रूप को याद कर
लिख डालीं दो चार किताब
दिया जो तुमने दर्द मुझे
वो निकल पड़े बन अल्फाज़,
ढूँढ रही अपने अंदर
बचपन की वो जली डायरी
क्या दे सकोगे मुझको तुम
खोई हुई पहली शायरी !
खोई हुई पहली शायरी !!
खोई हुई पहली शायरी !!!

नीरजा मेहता

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 482 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. नीरजा मेहता 'कमलिनी'
View all
You may also like:
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एक शाम उसके नाम
एक शाम उसके नाम
Neeraj Agarwal
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
कृषक
कृषक
साहिल
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
आज फिर से
आज फिर से
Madhuyanka Raj
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
मीठी नींद नहीं सोना
मीठी नींद नहीं सोना
Dr. Meenakshi Sharma
सफलता
सफलता
Raju Gajbhiye
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
2834. *पूर्णिका*
2834. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
■ विनम्र निवेदन :--
■ विनम्र निवेदन :--
*प्रणय प्रभात*
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
फौजी की पत्नी
फौजी की पत्नी
लक्ष्मी सिंह
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
Er.Navaneet R Shandily
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यारो हम तो आज भी
यारो हम तो आज भी
Sunil Maheshwari
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रेत पर
रेत पर
Shweta Soni
"लू"
Dr. Kishan tandon kranti
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
Loading...