Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

“बेज़ारी” ग़ज़ल

हम गीत, मिलन के भले ही, गाए हुए हैं,
इक दर्द को, सीने से पर, लगाए हुए हैं।

प्यासी है ज़मीं, अब्र रूठ कर जो चल दिए,
मुद्दत से, आसमां को, आज़माए हुए हैं।

टेढ़ी नज़र का अब अदू की, ध्यान क्या धरें,
हम दोस्तों से ज़ख़्म, दिल पे, खाए हुए हैं।

बेज़ारे-तग़ाफ़ुल हैं, गुफ़्तगू न हो सकी,
अँदाज़ उसके, फिर भी हमें, भाए हुए हैं।

मेहनत के, पसीने का, इत्र, रास है हमें,
हम सर से, तेज़ धूप मेँ, नहाए हुए हैं।

कहते हैं अपनी बात, भले सादगी से ही,
चर्चा मेँ, फिर भी हम, जहाँ की,आए हुए हैं।

मुस्कान, लबों पर है मिरे, तैरती भले,
आँखों में समन्दर को पर, छुपाए हुए हैं।

दुनिया की रिवायत,कोई सिखलाएगा भी क्या,
हम इश्क़-ए-दस्तूर को, निभाए हुए हैं।

साहिल से कहो, ख़ुद ही कभी पास आ मिले,
मौजों को अपने दिल मेँ हम, समाए हुए हैं।

मांगें भी उससे क्या, है पसोपेश ये “आशा”,
रहमत हरेक, उसकी, हम तो, पाए हुए हैं..!

अब्र # बादल, clouds
अदू # दुश्मन, foe
बेज़ारे-तग़ाफ़ुल # ( प्रेयसी के) उपेक्षापूर्ण रवैये से खिन्न, unhappy due to neglectful attitude ( of the beloved)
रहमत # कृपा, mercies

4 Likes · 4 Comments · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
मुल्क़ में अब
मुल्क़ में अब
*Author प्रणय प्रभात*
Destiny
Destiny
Sukoon
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दोहा मुक्तक
दोहा मुक्तक
sushil sarna
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
बरसात
बरसात
लक्ष्मी सिंह
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
3086.*पूर्णिका*
3086.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मुक्तक*
*मुक्तक*
LOVE KUMAR 'PRANAY'
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
गाओ शुभ मंगल गीत
गाओ शुभ मंगल गीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
Helping hands🙌 are..
Helping hands🙌 are..
Vandana maurya
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
Aadarsh Dubey
देश का वामपंथ
देश का वामपंथ
विजय कुमार अग्रवाल
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
शक्ति राव मणि
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
ना फूल मेरी क़ब्र पे
ना फूल मेरी क़ब्र पे
Shweta Soni
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
Loading...