Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

बिखरे सपने

महीने की पहली तारीख
उसे तनख्वाह मिली थी
तेजी से कदम बढ़ाता
वह सोचता चला जा रहा था
माँ की दवा और फल
बिट्टू के लिए चाकलेट
मुनिया के लिए नयी फ्राक
पत्नी की साड़ी .. ..
पीछे से आता एक ट्रक
तेजी से उसे
रौंदकर निकल गया
और – एक ही झटके में
बिखर गये
उसके सारे सपने।

वर्ष : – २०१३

Language: Hindi
2 Likes · 46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
Ravi Prakash
"उम्मीद"
Dr. Kishan tandon kranti
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
gurudeenverma198
मां को शब्दों में बयां करना कहां तक हो पाएगा,
मां को शब्दों में बयां करना कहां तक हो पाएगा,
Preksha mehta
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*लू के भभूत*
*लू के भभूत*
Santosh kumar Miri
■ आज का खुलासा...!!
■ आज का खुलासा...!!
*प्रणय प्रभात*
आज फ़िर एक
आज फ़िर एक
हिमांशु Kulshrestha
माँ बाप बिना जीवन
माँ बाप बिना जीवन
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
Dr Archana Gupta
जीवन तब विराम
जीवन तब विराम
Dr fauzia Naseem shad
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
आज मन उदास है
आज मन उदास है
Shweta Soni
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
sushil sarna
तलबगार दोस्ती का (कविता)
तलबगार दोस्ती का (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
पास तो आना- तो बहाना था
पास तो आना- तो बहाना था"
भरत कुमार सोलंकी
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
Lokesh Sharma
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...