Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

*** बिंदु और परिधि….!!! ***

“”” बिंदु…..! ( प्रेम प्रतिक ) ,
न कोई लंबाई, चौड़ाई, ऊंचाई…
और न कोई माप…!
न कोई आकार, आकृति, आयतन, क्षेत्रफल…
और न कोई परिणाम…!
एक “बिंदु” केंद्र बन…
कर गया निर्माण वृत्त-परिधी…! (जीवन चक्र ),
त्रिज्या-व्यास…! (मेल-मिलाप प्रतीक )
तय करता वृत्त-परिधी की परिमाप…!
फिर…
बढ़ते-घटते त्रिज्या से,
बनता लधु-दीर्घ वृत्त की…
एक सीमा, क्षेत्र एक दायरा…!
वृत की परिधि पर…
लगाते अनेक चक्कर, अबोध मन बावरा…!
जब-जब त्रिज्या में…
होता है अनुपातिक परिवर्तन,
गणितज्ञ बन हम-तुम अनेक विधियों से…
करते गणना, परिकलन और आंकलन…!
लेकिन…!
सारे क्रियाकलापों के हैं…
केवल और केवल एक ही आधार…!
अपरिवर्तित ” बिंदु ” एक आकार…!
बिन इसके किसी वृत्त-परिधी की,
होता नहीं रचना…!
केवल मात्र बिंदु ही है…
समूल आधार संरचना…!
लगा लो तुम विविध-विचार…
लेकिन…!
होता नहीं ” बिंदु ” का कोई रुप-आकार…!
यदि ” बिंदु ” का वास्तविक आकार…
या आकृति का करना है अवलोकन…!
या आंकलन-अनुमान…
चुन लें वर्ण-विक्षेपण सा ( सप्तरंगी समूह) ,
परिधान…!
चयन कर कोई एक रंग ( एक राह ) ,
वृत्तीय रचना ही प्रतीत् होगा…
एक आवर्धित बिंदु सा बृहद-बिंदु अंग…!
तू लगा इसकी सीमा में…
अपनी शक्ति से सक्षम फेरा…
न कर समझने का यत्न यहां,
है न कोई अपना मेरा-तेरा….!! “”

************∆∆∆***********

Language: Hindi
102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
*मेरे मम्मी पापा*
*मेरे मम्मी पापा*
Dushyant Kumar
यक्ष प्रश्न है जीव के,
यक्ष प्रश्न है जीव के,
sushil sarna
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
#मीडियाई_मखौल
#मीडियाई_मखौल
*प्रणय प्रभात*
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
इस कदर भीगा हुआ हूँ
इस कदर भीगा हुआ हूँ
Dr. Rajeev Jain
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वीर तुम बढ़े चलो...
वीर तुम बढ़े चलो...
आर एस आघात
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
तुम मेरे बाद भी
तुम मेरे बाद भी
Dr fauzia Naseem shad
बहुत खुश था
बहुत खुश था
VINOD CHAUHAN
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Vaishali Verma
*हे शिव शंकर त्रिपुरारी,हर जगह तुम ही तुम हो*
*हे शिव शंकर त्रिपुरारी,हर जगह तुम ही तुम हो*
sudhir kumar
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शादी की वर्षगांठ
शादी की वर्षगांठ
R D Jangra
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
पूर्वार्थ
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
* गूगल वूगल *
* गूगल वूगल *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमेशा एक स्त्री उम्र से नहीं
हमेशा एक स्त्री उम्र से नहीं
शेखर सिंह
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
Shashi kala vyas
Loading...