Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Apr 2023 · 1 min read

“बाल-मन”

“बाल-मन”
बूंदों की बारात देखकर
मन पुलकित हो जाता,
पल दो पल की जिन्दगी में भी
ओस-कण मुस्कुराता।
कभी सोचता बाल-मन मेरा
रातें क्यों रोती है,
क्या रातों को मनाने के लिए ही
रोज सुबह होती है?

13 Likes · 5 Comments · 358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
श्रृंगार
श्रृंगार
Neelam Sharma
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
■ बेबी नज़्म...
■ बेबी नज़्म...
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
अंबेडकर और भगतसिंह
अंबेडकर और भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
Sunil Suman
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
ruby kumari
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Sakshi Tripathi
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
आधुनिक नारी
आधुनिक नारी
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
स्वच्छ देश अभियान में( बाल कविता)
स्वच्छ देश अभियान में( बाल कविता)
Ravi Prakash
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
" मंजिल का पता ना दो "
Aarti sirsat
बहुत समय बाद !
बहुत समय बाद !
Ranjana Verma
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
.............सही .......
.............सही .......
Naushaba Suriya
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
Loading...