Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2023 · 1 min read

बापू गाँधी

राष्ट्रपिता वो कहलाते
बच्चे उनको बापू बुलाते
सत्य,अहिंसा का पाठ पढ़ाया
यूँ देश को आज़ाद कराया।

जीते थे सदा जीवन सादा
देश से किया था इक वादा
था तनमन जीवन लगाया
देश को ‘स्वातंत्र्य’ दिलाया।

फिरंगियों से लड़ी लड़ाई
आज़ादी की कीमत चुकाई
प्रतिदिन थे चरखा चलाते
करते थे वस्त्रों की बुनाई।

तन पर न कभी कोई कोट था
सदैव ही पहनते थे धोती
अस्त्र उनके केवल ये ही
सत्य,अहिंसा मीठी सी बोली।

मखमल ना कोई रेशम था
वस्त्र थे केवल उनके खादी
बस इक लाठी के दम पे ही
शत्रुओं को थी धूल चटाई।

घबराकर यूँ भागे फ़िरंगी
भारत ने आज़ादी पाई
आया पावन दिन ये कितना
बापू को जन्मदिन की बधाई।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*लिखते खुद हरगिज नहीं, देते अपना नाम (हास्य कुंडलिया)*
*लिखते खुद हरगिज नहीं, देते अपना नाम (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
सच्चा मन का मीत वो,
सच्चा मन का मीत वो,
sushil sarna
** मंजिलों की तरफ **
** मंजिलों की तरफ **
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-516💐
💐प्रेम कौतुक-516💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
सत्संग
सत्संग
पूर्वार्थ
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
गांधीजी की नीतियों के विरोधी थे ‘ सुभाष ’
कवि रमेशराज
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
2730.*पूर्णिका*
2730.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शायर जानता है
शायर जानता है
Nanki Patre
किसे फर्क पड़ता है
किसे फर्क पड़ता है
Sangeeta Beniwal
"शब्दों का सफ़र"
Dr. Kishan tandon kranti
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
किए जा सितमगर सितम मगर....
किए जा सितमगर सितम मगर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
Loading...