Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

“बँटवारा”

“बँटवारा”
बँटवारा देश का हो या घर का
दिल टूट ही जाते हैं,
आँगन में खींची दीवारें
दूरियाँ और अलगाव
अन्तस को विन्ध जाते हैं।

1 Like · 1 Comment · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
भगवान बुद्ध
भगवान बुद्ध
Bodhisatva kastooriya
କୁଟୀର ଘର
କୁଟୀର ଘର
Otteri Selvakumar
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दुआ नहीं होना
दुआ नहीं होना
Dr fauzia Naseem shad
मन और मस्तिष्क
मन और मस्तिष्क
Dhriti Mishra
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
सुरक्षित भविष्य
सुरक्षित भविष्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Sushil Pandey
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
"किताब के पन्नों में"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
नव वर्ष मंगलमय हो
नव वर्ष मंगलमय हो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
तुम्हारा प्यार मिले तो मैं यार जी लूंगा।
तुम्हारा प्यार मिले तो मैं यार जी लूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
वार्तालाप
वार्तालाप
Pratibha Pandey
When you think it's worst
When you think it's worst
Ankita Patel
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
..
..
*प्रणय प्रभात*
Loading...