Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2017 · 1 min read

प्रेम

एक कविता

प्रेम
दर्शन है
कोई
प्रदर्शन नहीं

प्रेम
संस्कृति है
कोई
संस्कार नहीं

प्रेम
शजर की छाँव है
कोई
शाख का पत्ता नहीं

प्रेम
आत्मा है मधुरता की
कोई
साज का तार नहीं

प्रेम
मधुवन है ख्वाबों का
कोई
अमावस की रात नहीं

प्रेम
हकीकत है दुनिया की
कोई
गुजरी कहानी नहीं

प्रेम
गीत है मेरे अश्कों का
कोई
मेरे होठों की मुस्कान नहीं

प्रेम
अहसास है इबादत का
कोई
पल दो पल की इल्तजा नहीं

संदीप शर्मा “कुमार”

Language: Hindi
662 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
मैं नहीं तो कोई और सही
मैं नहीं तो कोई और सही
Shekhar Chandra Mitra
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
टूटेगा एतबार
टूटेगा एतबार
Dr fauzia Naseem shad
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
प्रकृति और तुम
प्रकृति और तुम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
गुनाह ना करके भी
गुनाह ना करके भी
Harminder Kaur
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
मी ठू ( मैं हूँ ना )
मी ठू ( मैं हूँ ना )
Mahender Singh
2373.पूर्णिका
2373.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
Manoj Mahato
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
हर हाल मे,जिंदा ये रवायत रखना।
हर हाल मे,जिंदा ये रवायत रखना।
पूर्वार्थ
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
क्वालिटी टाइम
क्वालिटी टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
सब तमाशा है ।
सब तमाशा है ।
Neelam Sharma
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
Rj Anand Prajapati
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...