Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

प्रेम

प्रेम पर्याय है प्रतिबद्धता का!
सम्पूर्ण समर्पण कटिबद्धता का!!
जहँ न कोई ,नू- नकर होती,
बस निबाहने की वचनबद्धता का!!
है यही सनातन संस्कृति आदर्श,
भाव दो का न हो,एकबद्धता का!!
आत्मा का ज्यू मिलन परमात्मा से,
सुफल जीवन समर्पण शुद्धता का!!

बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट नीरव निकुजं,सिकंदरा आगरा
मौलिक रचना सर्वाधिकार सुरछित

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
"गुनाह कुबूल गए"
Dr. Kishan tandon kranti
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
Trishika S Dhara
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ज़िंदगी की चाहत में
ज़िंदगी की चाहत में
Dr fauzia Naseem shad
निर्दोष कौन ?
निर्दोष कौन ?
Dhirendra Singh
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
राखी है अनमोल बहना की ?
राखी है अनमोल बहना की ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
हमारे बिना तुम, जी नहीं सकोगे
हमारे बिना तुम, जी नहीं सकोगे
gurudeenverma198
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
*प्रणय प्रभात*
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
अधूरे रह गये जो स्वप्न वो पूरे करेंगे
अधूरे रह गये जो स्वप्न वो पूरे करेंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
!! राम जीवित रहे !!
!! राम जीवित रहे !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
धीरज और संयम
धीरज और संयम
ओंकार मिश्र
लहर लहर लहराना है
लहर लहर लहराना है
Madhuri mahakash
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
Loading...