Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

प्रेम की पाती

प्रेम की पाती
**********
प्रिय ,क्या है प्रेम में निभाना
क्या है मिलना , क्या है उसका दूर जाना
जब उसको छोड़ कर
दूर रह कर उससे
होते हैं उसके साथ के एहसास
तब दूरी क्या और क्या है पास।

प्रेम तो योग है सत्य निष्ठा का
प्रश्न कहाँ उठता है इसमें
अहं और प्रतिष्ठा का
प्रिय, यह प्यार कैसा
लालच – लांछन
भय -झूट – अविश्वास
से मिला -विवाद जैसा

मुझे तुम्हारे प्रति संवेदना
भावुकता की अनुभूति रहती है
इस भाव की भाषा
कदाचित यही कहती है
फूल और काटों के बीच
चुभन के अस्तित्व क्या
जब सुगंध सी प्रीति
दोनों के बीच रहती है
न ही कोई जीत है
न ही है किसी को हराना
कदाचित यही तो है
प्रेम का निभाना , प्रिय …
प्रेम पाती भेज रहा हूँ तुम्हें
जवाब की जगह तुमको है आना ।
– अवधेश सिंह

29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मायका वर्सेज ससुराल
मायका वर्सेज ससुराल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
This Love That Feels Right!
This Love That Feels Right!
R. H. SRIDEVI
शिक्षा दान
शिक्षा दान
Paras Nath Jha
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
*Loving Beyond Religion*
*Loving Beyond Religion*
Poonam Matia
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
Shreedhar
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
श्याम भजन -छमाछम यूँ ही हालूँगी
श्याम भजन -छमाछम यूँ ही हालूँगी
अरविंद भारद्वाज
हो....ली
हो....ली
Preeti Sharma Aseem
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
पूर्वार्थ
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
सत्य कुमार प्रेमी
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
Loading...