Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

पानी की खातिर

अब पानी की खातिर होगा
दुनिया में महायुद्ध,
नहीं मिल रहा पीने को
आज भी पानी शुद्ध।

पानी लेने के वास्ते दिखते
भीड़ और जमाव,
नल टैंकर कुओं में बढ़ रहे
लोगों में टकराव।

देश की सारी नदियों के दर्द
सारा जमाना देख रहा,
बावजूद अन्धश्रद्धा के कारण
अस्थियों को फेंक रहा।

पानी की खातिर मच रहा
उठापटक और रार,
नदियाँ प्रदूषित हो चुकी अब
तीन सौ से पार।

पेड़ बेदर्दी से कटते जा रहे
दिनों-दिन बेहिसाब,
प्राकृतिक न्याय है अटल सत्य
ये मत भूलो जनाब।

( मेरी प्रकाशित कृति : ‘माटी के रंग’ से )

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
भारत के 100 महान व्यक्तित्व में शामिल
एक साधारण व्यक्ति।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
kavita
kavita
Rambali Mishra
अहंकार
अहंकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
नायाब तोहफा
नायाब तोहफा
Satish Srijan
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जीवन में ख़ुशी
जीवन में ख़ुशी
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
"जर्दा"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन पुष्प की बगिया
जीवन पुष्प की बगिया
Buddha Prakash
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
VEDANTA PATEL
3294.*पूर्णिका*
3294.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
Loading...