Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

“पहचान”

“पहचान”
अहसास के सीने पर भी
छाले पड़ जाते,
असली-नकली की पहचान में
पूरे वक्त गुजर जाते।

1 Like · 1 Comment · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
2593.पूर्णिका
2593.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*रावण का दुख 【कुंडलिया】*
*रावण का दुख 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
त्याग
त्याग
Punam Pande
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
इस तरफ न अभी देख मुझे
इस तरफ न अभी देख मुझे
Indu Singh
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
आँखें
आँखें
Neeraj Agarwal
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Raju Gajbhiye
मेरा आंगन
मेरा आंगन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
लंगड़ी किरण (यकीन होने लगा था)
लंगड़ी किरण (यकीन होने लगा था)
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
"काफ़ी अकेला हूं" से "अकेले ही काफ़ी हूं" तक का सफ़र
ओसमणी साहू 'ओश'
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चाँद और इन्सान
चाँद और इन्सान
Kanchan Khanna
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
DrLakshman Jha Parimal
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...