Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?

पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?

पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
जब शब्दों में ही रह जाए अभाव ।

अभाव में वह स्वभाव कहां से लाऊं ?
जब स्वभाव में है ,अज्ञानता का लेप ।

अज्ञानता में वह शब्द कहां से लाऊं ?
जब झूठ ना बोलने की है ख्वाहिश ।

ख्वाहिश में खुशी कहां से लाऊं ?
जब खुशी में ही लग जाए ग्रहण ।

ग्रहण तो निकल जाए पर वह
नया सुबह कहां से लाऊं ?

जब रात ना कटने की खाई कसम
कसम से वह कसम कहां से लाऊं ?

जब कसम ही निकला झूठा ,
बात ना कर कसम से, लिखने की

लिखने की तो है तमन्ना
अल्फाज कहां से लाऊं ?

जीवन को जीना है
पर खुशी कहां से लाऊं ?

गौतम साव

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from goutam shaw
View all
You may also like:
दोहा पंचक. . . .इश्क
दोहा पंचक. . . .इश्क
sushil sarna
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
मेरा दुश्मन मेरा मन
मेरा दुश्मन मेरा मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
!........!
!........!
शेखर सिंह
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
* याद है *
* याद है *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं और सिर्फ मैं ही
मैं और सिर्फ मैं ही
Lakhan Yadav
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
Anil chobisa
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
माँ
माँ
Anju
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
आज वक्त हूं खराब
आज वक्त हूं खराब
साहित्य गौरव
3234.*पूर्णिका*
3234.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
Loading...