Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

नसीब

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* नसीब *
टूट जाना हो सकता है, मेरी किस्मत होगा ।
मगर फितरत नहीं, ये तो समझना होगा ।
मैं भी इंसान हूँ , गलतियाँ होंगी जरूर ।
कुदरत की कक्षा का, यही तो है दस्तूर ।
हर बार करूँ , ये तो एक फ़साना होगा
मगर फितरत नहीं, ये तो समझना होगा ।
आदतन आदमी पैदाइशी, लापरवाह हिकमत से ।
सीखता कर – कर के गलतियाँ कुदरत से ।
अब ये इल्जाम, हमीं को तो मिटाना होगा ।
टूट जाना हो सकता है, मेरी किस्मत होगा ।
मगर फितरत नहीं, ये तो समझना होगा ।
तिरा रूठ कर यकसां चले जाना अजीब था ।
पूरी कायनात में , मैं ही नहीं बसनसीब था ।
और लोगों को भी तूने इस तरहाँ सताया होगा ।
अब ये इल्जाम, हमीं को तो मिटाना होगा ।
टूट जाना हो सकता है, मेरी किस्मत होगा ।
मगर फितरत नहीं, ये तो समझना होगा ।
आज नहीं तो कल सबने चले जाना होगा ।
वल्लाह अब इसमें भी, बे-अदबी का बहाना होगा ।
करूँ मेहनत दिल से , ये कायदा मेरी फितरत ।
मिले शोहरत , वरदान बन कर ये उसकी रहमत ।
अब सभी की पसंद बन पाना, तो मुश्किल होगा ।
टूट जाना हो सकता है, मेरी किस्मत होगा ।
मगर फितरत नहीं, ये तो समझना होगा ।

2 Likes · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
प्यासे को
प्यासे को
Santosh Shrivastava
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
याद
याद
Kanchan Khanna
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर  स्वत कम ह
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर स्वत कम ह
पूर्वार्थ
😢लिव इन रिलेशनशिप😢
😢लिव इन रिलेशनशिप😢
*प्रणय प्रभात*
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
फितरत
फितरत
Sukoon
नदी की करुण पुकार
नदी की करुण पुकार
Anil Kumar Mishra
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
श्रमिक  दिवस
श्रमिक दिवस
Satish Srijan
बाबुल
बाबुल
Neeraj Agarwal
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
नज़र बचा कर चलते हैं वो मुझको चाहने वाले
नज़र बचा कर चलते हैं वो मुझको चाहने वाले
VINOD CHAUHAN
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
कसौटी जिंदगी की
कसौटी जिंदगी की
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
Loading...