Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

Dr Arun Kumar shastri

Dr Arun Kumar shastri
आप सभी स्वयं में ज्ञानी और बुद्धिमान व्यक्ति हैं ये एक अबोध बालक आपको क्या ज्ञान दे सकता है।
दोस्तों आज वही कल है जिसका आपको कल बहुत बे_सबरी से इन्तजार था।

78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
शेखर सिंह
*
*"रक्षाबन्धन"* *"काँच की चूड़ियाँ"*
Radhakishan R. Mundhra
बदलते चेहरे हैं
बदलते चेहरे हैं
Dr fauzia Naseem shad
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
Rj Anand Prajapati
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
Sanjay ' शून्य'
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
सुकून की चाबी
सुकून की चाबी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
Basant Bhagawan Roy
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
Manisha Manjari
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
हर रात की
हर रात की "स्याही"  एक सराय है
Atul "Krishn"
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
*नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई  लिखता है
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई लिखता है
Shweta Soni
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
नारी है तू
नारी है तू
Dr. Meenakshi Sharma
काजल
काजल
SHAMA PARVEEN
GOOD EVENING....…
GOOD EVENING....…
Neeraj Agarwal
3489.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3489.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
Satish Srijan
#अमृत_पर्व
#अमृत_पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...