Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2021 · 1 min read

नशे में फिजा इस कदर हो गई।

122 122 122 12
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
नजर देख लो खुद नजर हो गई।

बड़ा खुशनुमा हर नजारा लगे,
किया इश्क़ जब से असर हो गई।

मिला साथ तेरा बने हमसफ़र,
बड़ी खूबसूरत सफर हो गई।

मुलाकात अब रोज होने लगी,
शिकायत सभी को मगर हो गई।

निगाहें हमें खूब धोखा दिया,
जिधर देखतें तुम उधर हो गई।

चलो अब खुशी का जहाँ ढ़ूंढ़ ले,
इधर जो अभी थी किधर हो गई।

मिले प्यार से वो गले इस तरह,
अजी धड़कनों में कहर हो गई ।

करो प्यार से चंद बातें कभी ,
खुले होठ जब भी जहर हो गई ।

सजी ज़िन्दगी तुम मुझे जो मिली,
कहानी हमारी अमर हो गई।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

4 Likes · 2 Comments · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"पसंद और प्रेम"
पूर्वार्थ
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
Anand Kumar
सूर्य देव
सूर्य देव
Bodhisatva kastooriya
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
Shweta Soni
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
डी. के. निवातिया
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
आज हमने उनके ऊपर कुछ लिखने की कोशिश की,
आज हमने उनके ऊपर कुछ लिखने की कोशिश की,
Vishal babu (vishu)
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जब मैं परदेश जाऊं
जब मैं परदेश जाऊं
gurudeenverma198
"अपराध का ग्राफ"
Dr. Kishan tandon kranti
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2984.*पूर्णिका*
2984.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...