Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2016 · 1 min read

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में रमेशराज के 4 प्रणय गीत

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में प्रणय गीत-1
———————————–
जब वो बोले मिसरी घोले
मिसरी घोले हौले-हौले
हौले-हौले प्रिय मुसकाये
प्रिय मुसकाये मन को भाये
मन को भाये, मादक चितवन
मादक चितवन, अति चंचल मन
अति चंचल मन प्यार टटोले
प्यार टटोले जब वो बोले |
+रमेशराज

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में प्रणय गीत -2
————————————–
वे मुसकाते तम में आये
तम में आये, भाव जगाये
भाव जगाये मिलन-प्रीति का
मिलन-प्रीति का, रति-सुनीति का
रति-सुनीति का, दीप जलाये
दीप जलाये हम मुसकाये |
+रमेशराज

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में प्रणय गीत -3
———————————–
” पल-पल उसकी चंचल आँखें
चंचल आँखें, बादल आँखें
आँखें हरिणी जैसी सुंदर
सुंदर-सुंदर संकेतों पर
संकेतों पर मन हो चंचल
मन हो चंचल, यारो पल-पल | ”
(रमेशराज )

‘नव कुंडलिया ‘राज’ छंद’ में प्रणय गीत-4
—————————————
” पल-पल उससे मिलने को मन
मिलने को मन, पागल-सा बन
पागल-सा बन, उसे पुकारे
उसे पुकारे, प्रियतम आ रे !
प्रियतम आ रे, तब आये कल
तब आये कल, जब हों रति-पल | ”
(रमेशराज )
———————————————————–
रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ-२०२००१

Language: Hindi
294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
दीपक झा रुद्रा
माता-पिता
माता-पिता
Saraswati Bajpai
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
Ravi Prakash
■ दल_अनेक_फंडा_एक
■ दल_अनेक_फंडा_एक
*Author प्रणय प्रभात*
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
Phool gufran
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी यादों में लिखी कविताएं, सायरियां कितनी
तेरी यादों में लिखी कविताएं, सायरियां कितनी
Amit Pandey
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
गरीबों की जिंदगी
गरीबों की जिंदगी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
दिला दअ हो अजदिया
दिला दअ हो अजदिया
Shekhar Chandra Mitra
💐अज्ञात के प्रति-65💐
💐अज्ञात के प्रति-65💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भगवत गीता जयंती
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अज़ब दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
कवि रमेशराज
दोहा बिषय- महान
दोहा बिषय- महान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
माँ
माँ
लक्ष्मी सिंह
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...