Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 3 min read

*नवाब रजा अली खॉं ने श्रीमद्भागवत पुराण की पांडुलिपि से रामप

नवाब रजा अली खॉं ने श्रीमद्भागवत पुराण की पांडुलिपि से रामपुर रजा पुस्तकालय एवं संग्रहालय को समृद्ध किया था
#250yearsofRAZALIBRARY
————————————–
रामपुर रजा पुस्तकालय एवं संग्रहालय की स्थापना के दो सौ पचास वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में आयोजित प्रदर्शनी में एक रचना की ओर ध्यान आकृष्ट हुआ। काले और लाल रंग की गहरी मोटी लिखाई के साथ श्रीमद् भागवत पुराण के इस सचित्र लेखन के साथ जो विवरण संलग्न था, उस पर यह भी लिखा हुआ था कि 29 नवंबर 1933 को यह रचना रामपुर रजा लाइब्रेरी के संग्रह का हिस्सा बनी। सन 1930 ईसवी में रजा अली खान रामपुर के शासक बने थे। अतः 1933 की यह प्रवृत्ति नवाब रजा अली खॉ के सर्वधर्म समभाव पर आधारित सुंदर दृष्टिकोण को सशक्त कर रही है । इस चित्र में महाराज शुकदेव राजा परीक्षित और अन्यों को आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान कर रहे हैं।
रचना के बारे में विवरण में लिखा हुआ है कि यह कश्मीर में 1850 ईस्वी में तैयार की गई पांडुलिपि है।
रामपुर रजा लाइब्रेरी द्वारा संग्रहालय का आकार ग्रहण करने की प्रक्रिया में बहुमूल्य पांडुलिपियों की प्रदर्शनी लगाई गई है। इसमें इन्हें मूल रूप से दर्शकों के सामने रखा गया है। सभी पुस्तकें दुर्लभ हैं। यह फारसी भाषा में लिखी गई हैं। इन पर बनी हुई चित्रकारी इनका आकर्षण बढ़ा रही है। मूल फारसी लेखन के साथ-साथ संस्कृत से फारसी में पुस्तकों का अनुवाद करना बादशाहों और नवाबों को प्रिय रहा है।
अनुवाद के क्रम में नल-दमयंती की प्राचीन संस्कृत कथा को फारसी में लिखकर नल दमन शीर्षक से प्रस्तुत किया गया है। यह 1825 ईसवी की रचना है। पुस्तक को खोलकर प्रदर्शनी में रखा गया है, जिससे पुस्तक में बने हुए सुंदर चित्र दर्शकों का ध्यान आकर्षित करते हैं। चित्रों में सोने के पानी का प्रयोग इनकी चमक को अनेक गुण बढ़ा रहा है। नल दमन रामपुर रजा लाइब्रेरी में किस ईस्वी सन् में आई, इसका उल्लेख नहीं है।
ताड़ के पत्तों पर तमिल भाषा में उपनिषद भी संग्रहालय की प्रदर्शनी में देखने को मिला। इन्हें अठारहवीं शताब्दी का बताया गया है। यह रामपुर रजा लाइब्रेरी में किस शासक के शासनकाल में आए, इसका उल्लेख भी नहीं मिलता।
संग्रहालय कक्ष में सोने का एक सिक्का 7.800 ग्राम का प्राचीन कुषाण समय का है। इसे 200 – 225 ईसवी समय का बताया गया है। उस समय ‘वासुदेव प्रथम’ शासक थे। इसमें भगवान शंकर और नंदी का चित्र दिखाई दे रहा है।
कैलीग्राफी का एक सुंदर नमूना प्रदर्शनी में भगवद् गीता के अध्याय चार श्लोक सात एवं आठ का देखने में आया। इसमें भगवान कृष्ण ने सज्जनों की रक्षा और दुर्जनों के संहार के लिए धरती पर अवतार लेने का आश्वासन दिया है। यह सुलेख मौलाना अबुल कलाम आजाद अरबी एवं फारसी रिसर्च इंस्टीट्यूट, टोंक, राजस्थान सरकार के सौजन्य से रामपुर रजा लाइब्रेरी के पास प्रदर्शनी के लिए रखा हुआ था। इस सुलेख को हरिशंकर बलोथिया, जयपुर ने लिखा था। कलात्मक लिखावट ध्यान आकृष्ट कर रही है।
आशा की जानी चाहिए कि दुर्लभ पांडुलिपियों और बहुमूल्य वस्तुओं के दर्शन का लाभ रामपुर और विश्व के सभी शोधकर्ताओं को भविष्य में अधिकाधिक प्राप्त होता रहेगा।
————————————
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2522.पूर्णिका
2522.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
dks.lhp
💐प्रेम कौतुक-537💐
💐प्रेम कौतुक-537💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोहिनूराँचल
कोहिनूराँचल
डिजेन्द्र कुर्रे
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"धन वालों मान यहाँ"
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अगर हो दिल में प्रीत तो,
अगर हो दिल में प्रीत तो,
Priya princess panwar
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
उनसे कहना ज़रा दरवाजे को बंद रखा करें ।
उनसे कहना ज़रा दरवाजे को बंद रखा करें ।
Phool gufran
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
gurudeenverma198
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
धनवान -: माँ और मिट्टी
धनवान -: माँ और मिट्टी
Surya Barman
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
* धीरे धीरे *
* धीरे धीरे *
surenderpal vaidya
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
देर हो जाती है अकसर
देर हो जाती है अकसर
Surinder blackpen
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
हर क्षण का
हर क्षण का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...