Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

नज़्म – झरोखे से आवाज

झरोखे से आवाज

आजकल झरोखे से हवा बाहर जाती नहीं है।
हृदयगत भावनाएँ उथल पुथल मचाती नहीं है।

सड़क पर बैठकर बस, देख लेती है तमाशा,
अन्याय के खिलाफ आवाज उठाती नहीं है।

फिक्र है नहीं खुदा की खुदाई से क्या वास्ता,
दर्प में चूर ये सत्य को अपनाती नहीं है।

गर झूठ बोले तो वाह! वाही का नाद गुंजेगा,
यहाँ महफिल सच्चे तराने सुन पाती नहीं है।

मशाल जलाने की कहें तो यहाँ हाथ काँपते है,
अम्बर सी मेरे पास वो छाती नहीं है।

दुष्यंत जी ने कहा था चिंगारी ढूंढ लाने को,
मगर अब यहाँ तेल से भीगी हुई बाती नहीं है।

किसी और की क्या सोचें खुद भी सलामत कहाँ,
यही सोच हमारी जोखिम उठाती नहीं है।

इस गुलशन में हवा का रुख बदला सा लगे,
शायद अब कोई चमन ये महकाती नहीं है।

दूर क्षितिज पर एक असंभव का संभव होना,
ये इंसानी निगाहें वो असर देख पाती नहीं है।

खुद को बदला तो जग बदला “मुसाफिर”,
वरना ये भयानक रुत कभी जाती नहीं है।।

रोहताश वर्मा “मुसाफिर”

1 Like · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
*समृद्ध भारत बनायें*
*समृद्ध भारत बनायें*
Poonam Matia
कोशिशें हमने करके देखी हैं
कोशिशें हमने करके देखी हैं
Dr fauzia Naseem shad
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
Ram
Ram
Sanjay ' शून्य'
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
Ravi Prakash
#गौरवमयी_प्रसंग
#गौरवमयी_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
* कभी दूरियों को *
* कभी दूरियों को *
surenderpal vaidya
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
Vishal babu (vishu)
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कवि दीपक बवेजा
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
"सुगर"
Dr. Kishan tandon kranti
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2776. *पूर्णिका*
2776. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कविता
कविता
Rambali Mishra
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
Loading...