Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

ये नज़रें

नज़र से नज़र का असर है ,
जो इन नज़रों से बेख़बर है ,
वो एहसास -ए- शु’ऊर से बेअसर है ,
किसी ने जन्नत देखी है नज़रों में ,
किसी ने छलकता प्यार देखा है इन पियालों में .
कभी झलकता दर्द देखा है इन निगाहों में ,
बहुत कुछ बयाँ कर देती है
ये नज़रें ,
कभी दर्द, कभी सुकुँ, देती हैं
ये नज़रें ,
कभी पैवस्त हक़ीक़त उजागर करतीं हैं
ये नज़रें ,
कभी ब़ेब़सी , कभी बे़सब्री का इज़हार करती हैं
ये नजरें ,
कभी ज़िदगी खु़शनुमा बना देती हैं
ये नजरें ,
कभी ज़िंदगी ग़मज़दा बना देती हैं
ये नज़रें।

2 Likes · 2 Comments · 306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
2578.पूर्णिका
2578.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
नदी
नदी
Kumar Kalhans
Dear myself,
Dear myself,
पूर्वार्थ
"आम"
Dr. Kishan tandon kranti
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
*Author प्रणय प्रभात*
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
Dr MusafiR BaithA
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
करती रही बातें
करती रही बातें
sushil sarna
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
Neelam Sharma
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
इंतज़ार मिल जाए
इंतज़ार मिल जाए
Dr fauzia Naseem shad
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
नहीं आया कोई काम मेरे
नहीं आया कोई काम मेरे
gurudeenverma198
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
Shashi Dhar Kumar
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
Loading...