Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

धीरे धीरे

धीरे-धीरे अपनों का साथ, हाथों से छूटता चला गया।
जिंदगी का सफर अपना,इस तरह कटता चला गया।

आशा और निराशा के बीच, दिन गुजरता चला गया।
बिना अपने- अपनों के, यह पिंजर चलता चला गया।

उसका होना जिंदगी में मेरी, किस्मत को मंजूर न था।
जो भी दर्द मिला जीवन में, हँस के सहता चला गया।

छत-दीवारें घूरती मुझको, मैं खिजता ही चला गया।
वक्त की आँधी में पसरे यादों को,बटोरता चला गया।

कर कलेजा पत्थर का, पत्थर दिल को भूलता गया।
भूल नहीं पाया उसे,भूलने का अभिनय करता गया।

रिश्तों का छूटना शुरू हुआ तो,बस छूटता चला गया।
रेत-सा अपनों का साथ,मुठ्ठी से फिसलता चला गया।

किससे करते शिकायतें, दर्द देनेवाले सब अपने ही थे।अपनों पर भरोसा बना रहे, बस दर्द सहता चला गया।

©®रवि शंकर साह, बैद्यनाथ धाम, देवघर, झारखंड

Language: Hindi
1 Like · 335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पराया हुआ मायका
पराया हुआ मायका
विक्रम कुमार
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
manjula chauhan
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
ससुराल गेंदा फूल
ससुराल गेंदा फूल
Seema gupta,Alwar
💐अज्ञात के प्रति-42💐
💐अज्ञात के प्रति-42💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सोचता हूँ
सोचता हूँ
Satish Srijan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
जिस्म तो बस एक जरिया है, प्यार दो रूहों की कहानी।
जिस्म तो बस एक जरिया है, प्यार दो रूहों की कहानी।
Manisha Manjari
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
कवि दीपक बवेजा
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
DrLakshman Jha Parimal
"चुल्लू भर पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
संक्रांति
संक्रांति
Harish Chandra Pande
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2624.पूर्णिका
2624.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राम प्रकाश सर्राफ पुरस्कार आदि कार्यक्रम ( 26 दिसंबर 2006 से
राम प्रकाश सर्राफ पुरस्कार आदि कार्यक्रम ( 26 दिसंबर 2006 से
Ravi Prakash
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
गुरु
गुरु
Rashmi Sanjay
An Evening
An Evening
goutam shaw
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
वो तो है ही यहूद
वो तो है ही यहूद
shabina. Naaz
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
Loading...