Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

दोस्ती तेरी मेरी

किसी ने बड़ी कमाल की बात कही है….!!

ना समझ हु में थोड़ा प्यार में,
समझा नहीं पाया कोई मुझे….!!

मोहब्बत तुम्हारी समझ ने बैठा हूं मैं,
तुम्हारी मोहब्बत है या दोस्ती समझा नहीं पाया कोई मुझे….!!

कहे कलम घनश्याम की तुम्हारे दिल का रास्ता ढूंढ ने बैठा हूं मैं,
किस सफर पर मिलेगा साथ तुम्हारा ये समझा नहीं पाया कोई मुझे….!!

2 Likes · 292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मछली कब पीती है पानी,
मछली कब पीती है पानी,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शंगोल
शंगोल
Bodhisatva kastooriya
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गाँव पर ग़ज़ल
गाँव पर ग़ज़ल
नाथ सोनांचली
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गीत
गीत
सत्य कुमार प्रेमी
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
Chunnu Lal Gupta
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: आ स्वर की बंदिश रदीफ़ - न हुआ
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: आ स्वर की बंदिश रदीफ़ - न हुआ
Neelam Sharma
3239.*पूर्णिका*
3239.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
😊गर्व की बात😊
😊गर्व की बात😊
*Author प्रणय प्रभात*
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Dr. Kishan Karigar
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
Loading...