Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दिखाई देने वाला ख़्वाब हर क़ामिल नहीं होता

दिखाई देने वाला ख़्वाब हर क़ामिल नहीं होता
ज़ुबाँ से जो निकल जाए वो दर्देदिल नहीं होता

शमा रौशन हुई तो ख़ाक परवाना भी होता है
मुहब्बत में मिलन होना भी मुस्तक़बिल नहीं होता

चला जो तीर नज़रों का ज़िगर के पार निकला है
ख़लिश दिल में उठाकर भी वो क्यूँ कातिल नहीं होता

ज़िगर में रख के’ खुदगर्ज़ी नहीं आशिक़ बना कोई
है फ़ितरत जिसकी सौदाई वो बस ग़ाफ़िल नहीं होता

हुआ हासिल बताओ क्या यूँ नफरत पालकर दिल में
हुई जिसको मुहब्बत वो कभी संगदिल नहीं होता

बहाकर खून इंसानी तुझे हासिल न कुछ होगा
बढाना प्यार हर दिल में भी कुछ मुश्किल नहीं होता

ख़यालों में पिरोता हूँ मैं’ बस जज़्बात की लड़ियाँ
किसी का ग़म बंटाने को कुई शामिल नहीं होता

तज़ुर्बा ज़िन्दगी का मुझको बस इतना है जज़्बाती
परखना मत परखने से कोई काबिल नहीं होता
जज़्बाती

1 Comment · 141 Views
You may also like:
✍️✍️बूद✍️✍️
"अशांत" शेखर
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
खुशबू
DESH RAJ
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आप कौन है
Sandeep Albela
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
Baby cries.
Taj Mohammad
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
महेंद्र जी (संस्मरण / पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
*#आलू_जिंदाबाद (#हास्य_व्यंग्य)*
Ravi Prakash
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
Loading...