Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

दिए जलाओ प्यार के

अन्याय अत्याचार बहुत है,
अपराध भ्रष्टाचार बहुत है
आतंक अराजकता का
माहौल बहुत है!!

चाँद, सूरज तारे और सितारे
बहुत है
फिर भी अँधेरा ही अँधेरा
कहने को उजियार बहुत है!!

नारी शक्ति कि अर्घ्य आराधना
माँ दुर्गा का नव रात्रि में अनुष्ठान हुआ,
फिर भी नारी अबला
अकल्पनीय कल्पना से काँपती
चारो तरफ उजाला है
फिर भी नारी के मन में भय
भयंकर का अंधेरा है
किस पल लूट जाए मन में
डर का डेरा है,
यह कैसी दुनियाँ
कैसा सूर्योदय
सूरज तले अँधेरा है!!

सत्य के विजय के उल्लास से
आल्हादित जग सारा है,
मर्यादा की महिमा की गूँज
जग का नारा है!!

मर्यादा मर चुकी,
सत्य सार्थकता का
हो गया है अंत
रावण का मरना
व्यर्थ का अहंकार,
द्वेष, दंभ की दुनिया
आत्म भाव के अंधेरे में
हम पश्त हैं
फिर भी मस्त हैं!!

यदि अपने ही घर में हो
घनघोर तिमिर फिर
युग का यह आज तमस
क्या होगा इसका!!

आओ दियें जलाएं
प्यार के
मानवता परिवार के!!

तिमिर छटेगा
भ्रम भय मिटेगा
समरसता का रिश्ता नाता
सौम्य स्नेह का उजियारा!!

एन एल एम त्रिपाठी

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
बुंदेली हास्य मुकरियां -राना लिधौरी
बुंदेली हास्य मुकरियां -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
Neelam Sharma
अब जी हुजूरी हम करते नहीं
अब जी हुजूरी हम करते नहीं
gurudeenverma198
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
■ बेहद शर्मनाक...!!
■ बेहद शर्मनाक...!!
*Author प्रणय प्रभात*
सजाता कौन
सजाता कौन
surenderpal vaidya
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
2688.*पूर्णिका*
2688.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
?????
?????
शेखर सिंह
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
ଆତ୍ମ ଦର୍ଶନ
Bidyadhar Mantry
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
"जाम"
Dr. Kishan tandon kranti
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
मोबाइल (बाल कविता)
मोबाइल (बाल कविता)
Ravi Prakash
वक्त सा गुजर गया है।
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
Loading...