Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

“दरपन”

“दरपन”
दरपन को क्या देखना
देखो अन्तस् रूप,
जिसमें ना चरित्र हों
सुन्दर भी कुरूप।
सच-सच ऐ दरपन बता
कैसा मेरा रूप,
मैं छाया हूँ प्रेम की
वफ़ा की उजली धूप।

14 Likes · 9 Comments · 392 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
काश
काश
हिमांशु Kulshrestha
रामायण से सीखिए,
रामायण से सीखिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
Even If I Ever Died
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
निज धर्म सदा चलते रहना
निज धर्म सदा चलते रहना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
पूर्वार्थ
लहरों पर चलता जीवन
लहरों पर चलता जीवन
मनोज कर्ण
*वैराग्य (सात दोहे)*
*वैराग्य (सात दोहे)*
Ravi Prakash
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
33 लयात्मक हाइकु
33 लयात्मक हाइकु
कवि रमेशराज
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
श्याम सिंह बिष्ट
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
आँखे मूंदकर
आँखे मूंदकर
'अशांत' शेखर
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
जरा सी गलतफहमी पर
जरा सी गलतफहमी पर
Vishal babu (vishu)
"आग और पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
अखंड भारत
अखंड भारत
विजय कुमार अग्रवाल
■ आज की ग़ज़ल-
■ आज की ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
गुप्तरत्न
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
Satish Srijan
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...