Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

तेरा कंधे पे सर रखकर – दीपक नीलपदम्

तेरा कंधे पे सर रखकर के, शुकराना अदा करना,
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।
घड़ी वो थी मुबारक, आपने बोला था शुक्रिया,
एक बार बोले आप, खुदाया सौ बार शुक्रिया,
इसी तरह नज़र-ए-इनायत हम पर तुम सनम रखना,
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।
माना पल सुहाने आते हैं ऐसे, पल या दो-पल,
करो न वक़्त को बर्बाद, पल ये जायें ना निकल,
ऐसे वक़्त की खुशबू को, पन्ने में दबा रखना;
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।
अभी जाते हो तो जाओ के फिर, आओगे करो वादा,
मेरे हौसले जवान हो, बन गए हैं इरादा,
भूल कर सब, कयामत एक ढ़ाने की फ़िकर रखना;
रहे हरदम यही मंजर, मुझे कुछ याद ना रखना ।

(c) @ दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

1 Like · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Shyam Sundar Subramanian
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
मिल जाये
मिल जाये
Dr fauzia Naseem shad
जिनकी आंखों को धूप चुभे
जिनकी आंखों को धूप चुभे
*प्रणय प्रभात*
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी के तूफ़ानों की प्रवाह ना कर
जिंदगी के तूफ़ानों की प्रवाह ना कर
VINOD CHAUHAN
ओ! मेरी प्रेयसी
ओ! मेरी प्रेयसी
SATPAL CHAUHAN
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
Ravi Prakash
आसान होती तो समझा लेते
आसान होती तो समझा लेते
रुचि शर्मा
2572.पूर्णिका
2572.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खेलों का महत्व
खेलों का महत्व
विजय कुमार अग्रवाल
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
कविता
कविता
Rambali Mishra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
SUNIL kumar
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
Anil Mishra Prahari
वाचाल पौधा।
वाचाल पौधा।
Rj Anand Prajapati
"खुदा से"
Dr. Kishan tandon kranti
जो बालक मातृभाषा को  सही से सीख  लेते हैं ! वही अपने समाजों
जो बालक मातृभाषा को सही से सीख लेते हैं ! वही अपने समाजों
DrLakshman Jha Parimal
मेरी माँ
मेरी माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
रमेशराज के दो लोकगीत –
रमेशराज के दो लोकगीत –
कवि रमेशराज
Loading...