Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

“तुर्रम खान”

“तुर्रम खान”
‘तुर्रम खान’ शब्द जन-जन की जुबान पर इसलिए ही है कि वह मातृभूमि के माथे पर लगा हुआ वो ‘रक्त-तिलक’ है, जो बलिदान होकर नई पीढ़ी को अमर होने का रहस्य सिखाता है। वास्तव में यह वीरता और खुद्दारी का प्रतीक है।
-डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

9 Likes · 5 Comments · 157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इश्क समंदर
इश्क समंदर
Neelam Sharma
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
*मेल मिलाप  (छोटी कहानी)*
*मेल मिलाप (छोटी कहानी)*
Ravi Prakash
****प्राणप्रिया****
****प्राणप्रिया****
Awadhesh Kumar Singh
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
मैयत
मैयत
शायर देव मेहरानियां
💐अज्ञात के प्रति-130💐
💐अज्ञात के प्रति-130💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इक शाम दे दो. . . .
इक शाम दे दो. . . .
sushil sarna
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
■ सवा सत्यानाश...
■ सवा सत्यानाश...
*Author प्रणय प्रभात*
छाया हर्ष है _नया वर्ष है_नवराते भी आज से।
छाया हर्ष है _नया वर्ष है_नवराते भी आज से।
Rajesh vyas
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विचार
विचार
आकांक्षा राय
नाम इंसानियत का
नाम इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
Dushyant Kumar Patel
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
"जीत की कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
शेखर सिंह
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
आब आहीं हमर गीत बनल छी ,रचना केँ श्रृंगार बनल छी, मिठगर बोली
आब आहीं हमर गीत बनल छी ,रचना केँ श्रृंगार बनल छी, मिठगर बोली
DrLakshman Jha Parimal
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...