Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

तुम मेरे मालिक मेरे सरकार कन्हैया

तुम मेरे मालिक , मेरे सरकार कन्हैया
तुम मेरे जीवन का आधार कन्हैया

तुम से ही रोशन , मेरे दिन – रात कन्हैया
तुम से ही रोशन अभिनन्दन की राह कन्हैया

तुझ पर आशिक मैं , मेरी सरकार कन्हैया
तेरी हर कृपा का मैं कर्जदार कन्हैया

मेरी हर एक कोशिश का आधार कन्हैया
एक तुमसे ही मेरी कलम का विस्तार कन्हैया

तुमसे ही मेरी कोशिशों का समंदर हुआ रोशन कन्हैया
मेरी हर एक जीत का आधार कन्हैया

तुम मेरे मालिक , मेरे सरकार कन्हैया
तुम मेरे जीवन का आधार कन्हैया

Language: Hindi
2 Likes · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
gurudeenverma198
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
2569.पूर्णिका
2569.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
आज़ाद पंछी
आज़ाद पंछी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ सीधी बात, नो बकवास...
■ सीधी बात, नो बकवास...
*Author प्रणय प्रभात*
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Sakshi Tripathi
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
दिल की दहलीज पर कदमों के निशा आज भी है
दिल की दहलीज पर कदमों के निशा आज भी है
कवि दीपक बवेजा
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
आनंद
आनंद
RAKESH RAKESH
"त्रिशूल"
Dr. Kishan tandon kranti
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
हम भी नहीं रहते
हम भी नहीं रहते
Dr fauzia Naseem shad
गैर का होकर जिया
गैर का होकर जिया
Dr. Sunita Singh
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
Loading...