Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2024 · 1 min read

तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं

तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं,
एक अलविदा सुनने को तड़पाता नहीं।
बहकी हवाओं का पता कोई बताता नहीं,
इस दुनिया के उस पार सफर कर पाता नहीं।
खरीद लाऊँ साँसें, वो बाजार कोई लगाता नहीं,
मिट गया जो अस्त्तित्व, लौट कर आता नहीं।
एहसास उन आहटों को जगाता नहीं,
शब्द जो रो पड़े, उन्हें हंसाता नहीं।
सूरज झरोखों पर अब गुनगुनाता नहीं,
स्नेह थपकियाँ देकर सुलाता नहीं।
सफर लहरों का, मुक्कम्मल हो पाता नहीं,
टूटकर फ़ना होने से, कोई उन्हें बचाता नहीं।
पतझड़ फूलों की चादर बिछाता नहीं,
गिरते पत्तों को बढ़कर उठाता नहीं।
पगडंडियों को घर की दहलीज तक पहुंचाता नहीं,
मकान ईंटों का घर अब कहलाता नहीं।
गुलमोहर सपनों को अब महकाता नहीं,
तेरे साथ की साजिशों को रचाता नहीं।
आईना बिखरी शख्सियत के सच को दिखाता नहीं,
तेरी तलाश में निकले “मैं” से मुझको मिलाता नहीं।

50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
ये गजल नही मेरा प्यार है
ये गजल नही मेरा प्यार है
Basant Bhagawan Roy
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक़्त की मुट्ठी से
वक़्त की मुट्ठी से
Dr fauzia Naseem shad
धधक रही हृदय में ज्वाला --
धधक रही हृदय में ज्वाला --
Seema Garg
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
"परमार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
पर्यावरण संरक्षण
पर्यावरण संरक्षण
Pratibha Pandey
* निर्माता  तुम  राष्ट्र  के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम*【कुंडलिय
* निर्माता तुम राष्ट्र के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम*【कुंडलिय
Ravi Prakash
कोई शाम तलक,कोई सुबह तलक
कोई शाम तलक,कोई सुबह तलक
Shweta Soni
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
सच्ची सहेली - कहानी
सच्ची सहेली - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
पूर्वार्थ
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
छोड़ो टूटा भ्रम खुल गए रास्ते
छोड़ो टूटा भ्रम खुल गए रास्ते
VINOD CHAUHAN
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मन से हरो दर्प औ अभिमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
Monika Arora
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
3562.💐 *पूर्णिका* 💐
3562.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"अलग -थलग"
DrLakshman Jha Parimal
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Plastic Plastic Everywhere.....
Plastic Plastic Everywhere.....
R. H. SRIDEVI
मन मयूर
मन मयूर
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...